शेन्जेन। हांगकांग की सीमा के पार एक शहर के स्पोर्ट्स स्टेडियम में गुरुवार को लाल झंडे लहराते हुए हजारों चीनी सैन्य कर्मियों को देखा गया। चीन के शेनझेन में स्टेडियम के अंदर बख्तरबंद गाड़ियां भी देखी गईं। इस घटना के साथ ही यह चिंता भी पैदा हो गई कि हांगकांग में बीते 10 सप्ताह से चल रही अशांति को खत्म करने के लिए चीन सैन्य बल का इस्तेमाल कर हस्तक्षेप कर सकता है।

सरकारी मीडिया ने इस सप्ताह बताया कि सेंट्रल मिलिट्री कमीशन की कमान के तहत आने वाले पीपुल्स आर्म्ड पुलिस (पीएपी) के जवान शेन्जेन में जमा हो रहे हैं। गुरुवार सुरक्षा बलों को स्टेडियम के अंदर कभी विशेष फॉर्मेशन में चल रहे थे और कभी-कभी दौड़ते रहे थे, जबकि अन्य लोग मोटरबाइक पर बाहर की ओर जा रहे थे

स्टेडियम के बाहर दर्जनों ट्रक और बख्तरबंद गाड़ियां खड़ी थीं। दो सबसे शक्तिशाली सरकारी मीडिया संस्थानों में से ग्लोबल टाइम्स के प्रधान संपादक हू शिजिन ने कहा कि शेनजेन में सैन्य उपस्थिति इस बात का संकेत है कि हांगकांग में हस्तक्षेप करने के लिए चीन तैयार है। उन्होंने लिखा कि अगर प्रदर्शनकारी वापस नहीं लौटते हैं और स्थिति को गंभीर दिशा में आगे बढ़ाते हैं, तो चीन की सेना किसी भी समय हांगकांग पहुंच सकती है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि मंगलवार को अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने इस बात की पुष्टि की थी कि चीनी सेना हांगकांग की सीमा की ओर बढ़ रही थी। मुझे उम्मीद है कि इस मसले का शांतिपूर्ण हल निकलेगा। किसी को चोट नहीं लगे और किसी को भी नहीं मारा जाए।

एक स्वायत्त चीनी शहर हांग कांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों ने अधिक अधिकारों और स्वतंत्रता की मांग के लिए 10 सप्ताह से अथक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। साल 1997 में ब्रिटेन ने चीन को 'हांग कांग एक देश, दो प्रणाली' के आधार पर हैंडओवर किया था। यहां चीन से ज्यादा नागरिक आजादी लोगों को मिली हुई है। मगर, प्रदर्शनकारियों का कहना है कि चीनी हस्तक्षेप की वजह से यह आजादी कम होती जा रही है। हांग कांग में प्रदर्शन हिंसक होता जा रहा है और बीते हफ्ते में दो बार यहां के एयरपोर्ट को बंद करना पड़ा है, जो चीन के शासन के लिए सबसे बड़ा खतरा है।