संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के विशेषज्ञों का कहना है कि वे 17 देशों में उत्तर कोरिया की ओर से किए गए 35 साइबर हमलों की जांच कर रहे हैं। इन अपराधों को ऐसे समय पर अंजाम दिया गया जब उत्तर कोरिया पहले से ही यूएन प्रतिबंधों का सामना कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पेश की गई विशेषज्ञों की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने इन साइबर हमलों के जरिये दो अरब डॉलर (करीब 140 करोड़ रुपये) तक का धन जुटाया है।

इस धन का इस्तेमाल वह अपने विध्वंसक मिसाइल कार्यक्रम के लिए कर रहा है। उत्तर कोरिया की सेना को भी इस अवैध काम में लगाया गया है। दस साइबर हमलों का पड़ोसी मुल्क दक्षिण कोरिया को सबसे बड़ा खामियाजा उठाना पड़ा है।

भारत को भी ऐसे तीन साइबर हमलों से नुकसान झेलना पड़ चुका है। चिली और बांग्लादेश जैसे 15 अन्य देश भी इसका शिकार हो चुके हैं। साइबर अपराध को उत्तर कोरिया बैंकों के बीच धनराशि के लेन-देन में प्रयोग होने वाले सिस्टम को हैक कर अंजाम दे रहा है। इसके अलावा साइबर अपराधी क्रिप्टोकरेंसी के आदान-प्रदान में सेंध लगाकर अपने मंसूबे में कामयाब हो रहे हैं। रिपोर्ट में उत्तर कोरिया पर और ज्यादा प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है।