बीजिंग। चेंगदू स्थित अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास के औपचारिक रूप से बंद होने के बाद चीन ने इसकी इमारत को अपने नियंत्रण में ले लिया है। इस दूतावास का 1985 में तत्कालीन अमेरिकी उपराष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश ने उद्घाटन किया था। यहां पर 200 कर्मचारी काम करते थे, जिसमें 150 स्थानीय लोग थे। बता दें कि अमेरिका ने चीन को ह्यूस्टन स्थित अपना महावाणिज्य दूतावास 72 घंटे में खाली करने का निर्देश दिया था। वाशिंगटन के इस कदम के जवाब में चीन ने अमेरिका से चेंगदू दूतावास बंद करने को कहा था।

चीन के विदेश मंत्रालय द्वारा सोमवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया, "सोमवार सुबह 10 बजे चीन के अधिकारी सामने के दरवाजे से अंदर गए और सिचुआन प्रांत की राजधानी चेंगदू स्थित दूतावास की इमारत को अपने कब्जे में ले लिया। इमारत से अमेरिकी झंडे को सुबह 6ः18 बजे उतार लिया गया था।"

चीन के सरकारी प्रसारणकर्ता सीसीटीवी के मुताबिक इस दौरान भारी पुलिस बल मौजूद रहा। इस ऐतिहासिक पल को देखने के लिए चीन के उत्तर-पश्चिम इलाके झियान और सुदूर दक्षिण द्वीप हिनान से लोग आए थे। चीन के उत्तर में स्थित हेबेई प्रांत से आए एक व्यक्ति ने उम्मीद जताई है कि दूतावास फिर से खुलेगा।

उन्होंने कहा कि अगर चीन और अमेरिका ने आपस में सहयोग करना बंद करना दिया तो यह पूरी दुनिया के लिए अच्छा नहीं होगा। उधर, अमेरिकी विदेश विभाग ने एक बयान में कहा कि सोमवार सुबह 10 बजे से वाणिज्य दूतावास में कामकाज रोक दिया गया है।

चीन के फैसले पर निराशा व्यक्त करते हुए विदेश विभाग ने कहा कि वह चीन स्थित अपने अन्य मिशनों के माध्यम से इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों की मदद करना जारी रखेगा।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan