UNSC Meeting: संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNSC) को संबोधित करते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने रुस के खिलाफ कड़ा रवैया अपनाते हुए साफ कहा कि रूस ने यूक्रेन के साथ बेवजह युद्ध कर, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मूल सिद्धांतों का शर्मनाक तरीके से उल्लंघन किया है। बाइडन ने रूस के हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा यूरोप पर परमाणु हथियारों से हमले की नई धमकी से पता चलता है कि रूस परमाणु अप्रसार संधि (NPT) पर हस्ताक्षर करने के बावजूद गैर जिम्मेदाराना तरीके से उसके प्रावधानों की धज्जियां उड़ा रहा है। बाइडन ने कहा, हम सभी 141 देश रूस के हमले के विरुद्ध एकजुट होकर इसकी निंदा करते हैं।

रूस की ताजा धमकी

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कई बार न्यूक्लियर वॉर की धमकी दी है और बताया है कि रूस जरूरत पड़ने पर एटमी वॉर करने से पीछे नहीं हटेगा। रुस ने यूक्रेन में अब तीन लाख रिजर्व सैनिकों को तैनात किये जाने का भी ऐलान किया है। पुतिन ने बुधवार को ही अमेरिका समेत पश्चिमी देशों को धमकी देते हुए ऐलान किया कि कोई भी न्यूक्लियर अटैक की चेतावनी को हल्के में ना लें। रूस ने यह भी कहा है कि एटमी चेतावनी कोई ड्रामा नहीं है और रूस जरूरत के वक्त एटमी हमला कर सकता है। खास बात ये है कि इस बार रुस ने यह धमकी यूक्रेन ही नहीं अमेरिका जैसे बड़े देशों को भी दी है। उस वजह से अमेरिका तिलमिलाया हुआ है।

भारत की बढ़ी उम्मीदें

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों की संख्या बढ़ाने पर विशेष ज़ोर देने की वकालत की है। उन्होंने कहा कि अगर संयुक्त राष्ट्र को प्रभावी बनाना है कि स्थायी सदस्यों की संख्या बढ़ाना ही होगा। बाइडेन के इस बयान के बाद भारत के स्थायी सदस्य बनने की उम्मीद काफी बढ़ गई है। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) के नए स्थायी सदस्य बनने की रेस में भारत सबसे आगे है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close