वाशिंगटन । अफगानिस्तान में तालिबान के जबरन कब्जे के बाद लगातार पाकिस्तान की ओर से भी मदद दिए जाने की खबर आ रही है। ऐसे में इस बात को लेकर अमेरिका ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई है। अमेरिकी अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने साफ कहा कि पाकिस्तान तालिबान और हक्‍कानी नेटवर्क के आतंकियों को मदद रहा है। ब्लिंकेन ने कहा कि पाकिस्तान को अफगानिस्तान के संबंध में वैश्विक समुदाय की तय की गई नीतियों के हिसाब से ही अपनी नीति निर्धारित करनी चाहिए। गौरतलब है कि अमेरिकी विदेश मंत्री का बयान ऐसे समय पर आया है जब पाकिस्तान के खिलाफ प्रतिबंध लगाने की मांग तेज हो गई है।

अफगानिस्तान से जुड़े हैं पाक के की हित

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने माना कि पाकिस्तान के अफगानिस्तान के साथ बहुत सारे हित जुड़े हुए हैं, जिसको लेकर अमेरिकी हितों का सीधे टकराव हो सकता है। ब्लिंकेन ने साफ कहा कि तालिबान की जीत के बाद पाकिस्तान ने कई 'नुकसान पहुंचाने वाले' कई कदम उठाए।

अफगानिस्तान में हो रहा पाक का विरोध

गौरतलब है कि बीते दिनों पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी ISI के प्रमुख काबुल पहुंचे थे तो अफगान की जनता ने आईएसआई प्रमुख को जमकर विरोध किया था। ISI चीफ की यात्रा के दौरान पंजशीर में भीषण तालिबानी हमला हुआ और उन्‍होंने काफी इलाके पर कब्‍जा कर लिया।

पंजशीर में तालिबान की मदद कर रहा था पाकिस्तान

पाकिस्तान पर आरोप है कि उसने पंजशीर को जीतने में तालिबान लड़कों की मदद की थी। गौरतलब है कि तालिबान पर दो देशों का प्रभाव सबसे ज्यादा है एक पाकिस्तान और दूसरा कतर। पाकिस्तान के गृह मंत्री तो इस बात को स्वीकार भी कर चुके हैं कि पाकिस्तान में कई तालिबानी आतंकी और उनके परिवार रहते हैं।

Posted By: Sandeep Chourey