भारत में भगोड़ा घोषित हो चुका कारोबारी विजय माल्या अब लंदन में भी घर से बेदखल हो सकता है। ब्रिटेन की एक कोर्ट ने कर्ज नहीं चुकाने पर कारोबारी विजय माल्या के लंदन स्थित घर को बेचने के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि विजय माल्या ने इस घर को बेचने से रोकने के लिए एक याचिका लगाई थी, लेकिन उनके लंदन स्थित आलीशान घर से बेदखल करने के आदेश पर रोक लगाने की अर्जी मंगलवार को खारिज कर दी।

लंबे समय से चल रहा कानूनी विवाद

स्विस बैंक UBS के साथ लंबे समय से चल रहे कानूनी विवाद के बाद कोर्ट ने विजय माल्या के घर को खाली करने का आदेश दिया गया था। माल्या ने इस आदेश के पालन पर रोक लगाने की मांग कोर्ट से की थी और सुनवाई के लिए कोर्ट में याचिका भी लगाई थी, लेकिन अब लंदन हाई कोर्ट के चांसरी डिवीजन के जज मैथ्यू मार्श ने अपने फैसले में कहा कि माल्या परिवार को बकाया चुकाने के लिए अतिरिक्त समय देने का कोई आधार नहीं है।

संपत्ति से बेदखल हो सकते है विजय माल्या

लंदन हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद विजय माल्या को संपत्ति से बेदखल किया जा सकता है। माल्या को UBS स्विस बैंक को 204 मिलियन पाउंड का कर्ज चुकाना है। आपको बता दें कि लंदन के इसी घर में विजय माल्या की 95 साल की मां भी रहती हैं।

भारत सरकार कर चुकी है 13,109 करोड़ की वसूली

वहीं भारत में भी अभी तक भगोड़े कारोबारियों से अच्छी वसूली कर चुकी है। लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जानकारी दी थी कि बैंकों ने पिछले 7 सालों में नीरव मोदी, विजय माल्या और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से ऋण लेकर अदा नहीं करने वालों से संपत्ति बेचकर 13,109 करोड़ रुपए की वसूली की वित्त मंत्री ने वर्ष 2021-22 के लिए पूरक अनुदान मांगों के दूसरे बैच पर लोकसभा में चर्चा का जवाब देते हुए कहा था कि बैंक सुरक्षित हैं, बैंकों में जमाकर्ताओं का पैसा सुरक्षित है'।

2016 में ब्रिटेन भाग गया था विजय माल्या

बैंकों का कर्ज नहीं चुकाने पर कारोबारी विजय माल्या साल 2016 में ब्रिटेन भाग गया था। विजय माल्या पर 17 भारतीय बैंकों का 9,000 करोड़ रुपए से अधिक बकाया है, जिसमें से अधिकांश राशि वसूली जा चुकी है। भारतीय एजेंसियों ने ब्रिटेन की अदालत में माल्या के प्रत्यर्पण की अपील की और एक लंबी लड़ाई के बाद यूके की अदालत ने 14 मई को भारत में माल्या की प्रत्यर्पण अपील को मंजूरी दे दी। हालांकि कुछ कानूनी प्रावधानों के चलते उसे अभी तक भारत नहीं लाया गया है।

Posted By: Sandeep Chourey