दुनियाभर में ओमिक्रोन वेरिएंट तेजी से फैल रहा है और लगातार इस नए वेरिएंट पर शोध भी किए जा रहे हैं। इस बीच शीर्ष अमेरिकी वैज्ञानिक एंथोनी फाउची ने मंगलवार को कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन पर अपनी राय व्यक्त की है। वैज्ञानिक फाउची ने कहा कि शुरुआती संकेतों से पता चल रहा है कि यह वेरिएंट तेजी से फैलता है लेकिन ज्यादा हानिकारक नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि इसके तेज संक्रमण को गंभीरता से लेने की जरूरत है और इस वेरिएंट के प्रभावों को समझने में अभी कुछ हफ्तों का समय लग सकता है। उन्होंने कहा कि यह डेल्टा जितना खतरनाक नहीं है।

फाउची ने कहा कि कुछ रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ओमिक्रोन वेरिएंट काफी गंभीर है, लेकिन फिलहाल यह कहा जा सकता है कि यह डेल्टा वेरिएंट से अधिक खतरनाक नहीं है। फाउची ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में यह वेरिएंट पहली बार नवंबर में रिपोर्ट किया गया था। इसके बाद फिर जैसे-जैसे हम दुनिया के बाकी हिस्सों में अधिक संक्रमण के सैंपल प्राप्त करते हैं, यह देखने में अधिक समय लग सकता है कि गंभीरता का स्तर क्या है।

अभी तक 38 देशों में फैला है ओमिक्रोन वेरिएंट

अब तक ओमिक्रोन वेरिएंट कम से कम 38 देशों में मिल चुका है। साथ ही अभी तक ओमिक्रोन वेरिएंट के कारण किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। वैज्ञानिक विशेष रूप से स्पाइक प्रोटीन पर 30 से अधिक म्यूटेशन के कारण चिंतित हैं, जो कोरोना वायरस की सतह को डॉट करते हैं और इसे कोशिकाओं पर आक्रमण करने की अनुमति देते हैं।

ब्रिटेन में 'Omicron' वेरिएंट का कम्युनिटी स्प्रेड

इधर ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों से कहा कि शुरुआती संकेत बताते हैं कि कोरोना वायरस का ओमिक्रोन संस्करण डेल्टा से अधिक संक्रामक है। ब्रिटेन में मंगलवार को ओमिक्रोन वेरिएंट के 101 नए मामले सामने आए, जिसके साथ इन मामलों की संख्या बढ़कर 437 हो गई है। वहीं इससे पहले ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जावेद ने संसद में कहा कि कोरोना वायरस का नया रूप ओमिक्रोन देश के क्षेत्रों में सामुदायिक स्तर पर फैलना शुरू हो गया है।

Posted By: Sandeep Chourey