दुनियाभर में कोरोना वायरस की वजह से 10 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं और मृतकों का आंकड़ा 50 हजार से अधिक हो चुका है। इस बीच बताया जा रहा है कि इस वायरस से उन लोगों की मौत होने की आशंका ज्यादा है, जो पहले से किसी बीमारी से संक्रमित हैं या बढ़ती उम्र की वजह से अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से पहले से ग्रस्त हैं।

मगर, द्वितीय विश्व युद्ध में भाग ले चुके और 104 साल के बुजुर्ग ने कोरोना वायरस के संक्रमण को मात देकर साबित कर दिया है कि यदि जीने की चाह मजबूत हो, तो वायरस भी कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। कोरोना से जंग जीतकर उन्होंने बुधवार को परिवार के साथ अपना 104वां जन्म दिन मनाया। बताया जा रहा है कि विलियम बिल लैपचिस को इस वायरस के संक्रमण के लक्षण पांच मार्च को दिखाना शुरू हुए थे।

10 मार्च को Covid-19 के लिए उनका टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उन्हें बुखार था और उनकी सांसें उखड़ रही थीं। बुजुर्गों के बचने की संभावना कम होती है, लिहाजा उनके परिवार के लोग डर रहे थे। मगर, उन्होंने अपने जन्मदिन का जश्न मनाने के लिए समय के साथ जंग लड़ी और वायरस को हराकर स्वस्थ हो गए।

बिल के दो पोते, छह परपोते और पांच पर-परपोते हैं। वह द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने वाले एक सैनिक थे। वह अलेउतियन द्वीप समूह में तैनात थे और उन्होंने अपने जीवन काल में साल 1918 का स्पेनिश फ्लू, महान मंदी, कुछ एक मंदी के समय को देखा है। बताते चलें कि वह जिस फैसेलिटी में रह रहे थे, वहां रहने वाले 15 अन्य बुजुर्गों में भी कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया था, जिसमें से दो की मौत हो चुकी है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना