मेलबर्न। ऑस्ट्रेलियन एयरलाइन क्वांटस एयरवेज की फ्लाइट संख्या QF7879 19 घंटे 16 मिनट की सीधी उड़ान के बाद न्यूयॉर्क से सिडनी पहुंचेगी। एयरलाइन कंपनी ने कहा कि यह ऐतिहासिक पल है और यह यात्रा एक मील का पत्थर साबित होगी। जल्द ही इसे कॉमर्शियल सफलता में बदलेगी। बताते चलें कि इस साल कंपनी ने लंबी दूरी वाली पहली तीन टेस्ट फ्लाइट चलाने की योजना बनाई है। लंदन से सिडनी के लिए भी एयरलाइन एक टेस्ट फ्लाइट करना चाहती है।

आज तक किसी भी एयरलाइन ने बिना रुके इस रूट पर उड़ान नहीं भरी है। विमान में महज 49 यात्रियों को ही जगह दी गई थी, ताकि 16,000 किमी की दूरी तय करने में कोई परेशानी नहीं हो और ज्यादा वजन होने की वजह से विमान का ईंधन खत्म नहीं हो। केबिन में वैज्ञानिकों और चिकित्सा शोधकर्ताओं ने क्वांटस के ब्रांड-न्यू बोइंग कंपनी ड्रीमलाइनर को एक ऊंचाई वाली प्रयोगशाला में बदल दिया गया था।

उड़ान में सवार होने के बाद यात्रियों से कहा गया कि वे सिडनी के समय के अनुसार अपनी घड़ियां सेट कर लें और और उन्हें रात भर जागने के लिए लाइट, एक्सरसाइज, कैफीन और मसालेदार भोजन के साथ पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में रखा गया। छह घंटे बाद उन्हें एक उच्च कार्बोहाइड्रेट वाला भोजन परोसा गया। उन्हें स्क्रीन देखने से बचने के लिए कहा गया और रात को सोने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए रोशनी को धीमा कर दिया गया।

सिडनी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता प्रोफेसर मैरी कैरोल ने बताया कि उन्हें उम्मीद थी कि नए नजरिये की वजह से यात्रियों को कम से कम जेटलैग का असर महसूस हुआ होगा। मुझे उम्मीद है कि आज उनका एक सामान्य दिन होगा और एक सामान्य रात की नींद होगी।

बताते चलें कि जेट लैग आमतौर पर तब होता है, जब कोई यात्री तीन टाइम जोन को पार करता है। इसकी वजह से यात्रियों को अपने गंतव्य पर पहुंचने के बाद नींद नहीं आने, थकान होने और अन्य मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai