कुआलालंपुर। मलेशिया के पीएम महातिर मुहम्मद ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक की मांग नहीं की। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जाकिर नाइक भारत के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। पिछले दिनों रूस दौरे के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी की मलेशिया के पीएम महातिर मुहम्मद से मुलाकात हुई थी। इसके बाद विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि पीएम मोदी ने मलेशियाई पीएम के साथ बातचीत के दौरान भारत से भागे जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया।

इस मुलाकात के बाद इस पर सहमति बनी कि दोनों पक्षों के अधिकारी इस मामले पर संपर्क में रहेंगे। लेकिन अब मलेशिया के प्रधानमंत्री ने इससे बिलकुल उलट बयान दिया है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की जब उनसे मुलाकात हुई, उन्होंने नाइक के प्रत्यारोपण की मांग उनसे नहीं की। मलेशियाई मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक महातिर मुहम्मद से जब यह पूछा गया कि क्या जाकिर नाइक को भारत प्रत्यर्पित करने का कोई प्रस्ताव है? उन्होंने कहा, 'ऐसे बहुत से देश नहीं हैं, जो उन्हें चाहते हैं। मैं प्रधानमंत्री मोदी से मिला था, लेकिन उन्होंने मुझसे उसकी मांग नहीं की।'

जाकिर नाइक पिछले तीन साल से मलेशिया में रह रहा है। उसे यहां पर स्थाई निवासी का दर्जा भी हासिल है, लेकिन पिछले दिनों उसने देश के अल्पसंख्यक समुदाय को लेकर जो टिप्पणी की, उसे लेकर उसके खिलाफ नाराजगी चरम पर है। मलेशिया के कई राज्यों ने उसके भाषण देने पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया है।