ब्रसेल्स। यूरोपीय यूनियन (european union) ने रोमानिया और नार्वे से डॉक्टरों और नर्सो की टीम को मिलान और बरगामो के लिए रवाना किया है। यह टीम कोरोना वायरस से लड़ने में मदद के लिए इटली के मेडिकल स्टाफ की मदद करेगी। गौरतलब है कि यूरोप में महामारी से सबसे ज्यादा इटली प्रभावित है। अभी तक वहां 17,127 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 1,35,586 हो गई है। ईयू की ओर से मंगलवार को जारी बयान में कहा गया है कि यूरोपीय यूनियन के सिविल प्रोटेक्शन मेकैनिज्म की मदद से इस मेडिकल टीम को तैनात किया गया है। ऑस्ट्रिया ने भी इटली की मदद के लिए मेकैनिज्म के जरिये 3000 लीटर से ज्यादा डिसइंफैक्टेंट (कीटाणुनाशक) देने का प्रस्ताव दिया है।

यूरोपीय कमीशन की अध्यक्ष उर्सुला वोन डेर ने बयान जारी कर कहा, 'इटली में अपने सहकर्मियों की मदद के लिए घर छोड़कर आए नर्स और डॉक्टर यूरोपीय यूनियन की एकजुटता को बतातेहैं। ईयू के सदस्य देश इटली और अन्य प्रभावित देशों की मदद के लिए हरसंभव मदद कि कोशिश कर रहे हैं।' सार्वजनिक स्थानों और स्वास्थ्य सुविधाओं पर निगरानी रखने के लिए ईयू के कॉपरनिकस सैटेलाइट सिस्टम को भी इटली ने सक्रिय कर दिया है। इससे पहले चीन ने भी इटली को दो लाख सर्जिकल मास्क, दो लाख एन-95 मास्क और 50000 टेंस्टिंग किट दिए है।

इटली और स्पेन के अस्पतालों के आइसीयू में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी जरूर आई है, लेकिन यहां काम करने वाले डॉक्टर और नर्से भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक रूप से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। कहीं-कहीं तो ये लोग स्वयं को क्षति भी पहुंचा रहे हैं। इटली में दो नर्सो के द्वारा आत्महत्या करने का मामला तो कुछ दिनों पहले का ही है। मनोवैज्ञानिक चिकित्साकर्मियों को ऑनलाइन मुफ्त परामर्श दे रहे हैं, लेकिन लोंबार्डी क्षेत्र के हेल्थ केयर ट्रेनिंग अकादमी के निदेशक डॉ. एलेसेंड्रो कोलंबो इसके पीछे एड्रेनालाइन हार्मोन में वृद्धि को बड़ा कारण मानते हैं।

डॉ. एलेसेंड्रो का कहना है कि यह हार्मोन एक महीने तक सामान्य रूप से काम करता है, लेकिन अब दूसरा महीना शुरू हो चुका है, जिसकी वजह से ये लोग शारीरिक और मानसिक रूप से थक चुके हैं। उनके प्रारंभिक शोध के मुताबिक मरीजों की दशा का डॉक्टरों और नर्सों पर गंभीर प्रभाव पड़ा है। बरगामो के एक अस्पताल में नर्स फेरारी ने कहा, 'जब आप मरीज के लिए सब कुछ करते हैं और वह नहीं बचता है तो इसका गंभीर असर आपके ऊपर पड़ता है।'

फेरारी की सहयोगी मारिया बर्डार्डेली ने कहा कि चिकित्साकर्मियों को मरीजों को मरते देखने की आदत नहीं रही है। जब ऐसा कई बार होता है तो उसका बहुत ही मनोवैज्ञानिक असर उनकेे ऊपर होता है। यह वायरस काफी मजबूत है।गौरतलब है चिंता संबंधी विकारों और पोस्ट-ट्रॉमेटिक विकार वाले लोगों को एड्रेनालाइन की वृद्धि का अनुभव होता है जब उनको किसी ऐसी चीज की याद दिलाई जाती है, जो पिछले दिनों घटित हुई हो और जो उनकी भय की भावना को उकसाती हो। जब ऐसा रोजाना कई बार या प्रति सप्ताह कई बार होता है तो यह हमारे शरीर और दिमाग पर गंभीर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

स्पेन में पिछले चौबीस घंटे में 757 लोगों की मृत्यु हो हुई है। इस तरह स्पेन में मृतकों की संख्या 14,555 हो गई है। इसके एक दिन पहले 743 लोगों की मौत हुई थी। संक्रमित लोगों का आंकड़ा 140,510 से बढ़कर 146,690 हो गया है। स्पेन में लोगों को अपने प्रियजनों के अंतिम संस्कार के लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना पड़ रहा है। कब्रिस्तान के एक पादरी के अनुसार बुरे दिनों में 10-15 शव आते थे, लेकिन अब इनकी संख्या 40 के करीब हो गई है। उधर, इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों के अनुसार अगर देश में लॉकडाउन मई से आगे बढ़ता है तो इससे अर्थव्यवस्था ना केवल बुरी तरह प्रभावित होगी, बल्कि लगभग आठ लाख लोग बेरोजगार होंगे

ईरान में पिछले चौबीस घंटे में 121 और जानें चली गई हैं। इस तरह वहां मरने वालों की संख्या बढ़कर 3,993 हो गई है। इसके साथ ही पिछले चौबीस घंटे में संक्रमण के 1,997 नए मामले सामने आए हैं। देश में संक्रमित लोगों की संख्या 64,586 हो गई है। 3,956 लोगों की हालत काफी चिंताजनक जबकि 29,812 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। ईरान में अभी तक 220,975 लोगों का टेस्ट किया जा चुका है।

टोक्यो में एक दिन में 144 संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं। इस तरह जापान की राजधानी में संक्रमण के कुल मामले अब 1,339 हो गए हैं जबकि पूरे देश में इसकी संख्या कुल 4600 है। 98 लोगों की मौत भी हुई है। उधर, यूरोप की तरह जापान में भी लॉकडाउन का पालन नहीं किया जा रहा है। आपातकाल घोषित होने के दूसरे दिन ही टोक्यो में ट्रेनों में लोग यात्रा करते दिखाई दे रहे हैं।

कनाडा कोरोना से लड़ने के लिए चिकित्सा आपूर्ति के निर्यात को अवरुद्ध नहीं करने का अमेरिका से आग्रह करेगा। राष्ट्रपति जस्टिन ट्रूडो ने एक कहा कि 3एम कंपनी की तरफ से पांच लाख एन95 मास्क बुधवार को पहुंचने की उम्मीद है। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पीपीई का निर्यात रोकने के लिए पिछले सप्ताह एक प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए थे। बता दें कि अभी तक कनाडा में 345 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 17,063 लोग संक्रमित हैं।

देश मौतें-संक्रमित

इटली 17,127-135,586

स्पेन 14,555-146,690

अमेरिका 12,857-400549

फ्रांस 10,328-109,069

ब्रिटेन 6159-55,242

ईरान 3,993-64,586

चीन 3,333-81,802

मृतकों की संख्या 82,726 हुई

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना