56 साल की कमला हैरिस ने अमेरिका के उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेकर इतिहास रचा। वे पहली महिला, अश्वेत और भारतवंशी उपराष्ट्रपति बनीं। कमला हैरिस को शपथ सुप्रीम कोर्ट की न्यायमूर्ति सोनिया सोटोमायोर दिलाया। यह कार्यक्रम इस लिहाज से भी ऐतिहासिक होगा कि पहली अश्वेत दक्षिण एशियाई महिला उप राष्ट्रपति को पहली लातिन अमेरिकी न्यायमूर्ति द्वारा शपथ दिलाई गई। कमला हैरिस का जन्म 1964 में ऑकलैंड में हुआ था। उनकी मां का नाम श्यामला गोपालन हैरिस था जबकि उनके पिता जमैका के रहने वाले हैं। उनका नाम डोनाल्ड हैरिस है। वह स्टैनफोर्ड यूनिवर्सि‍टी में इकनॉमिक्स के प्रोफेसर थे। 1958 में तमिलनाडु की रहने वाली श्यामला गोपालन ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। उस जमाने में उन्‍होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया बर्कले में अध्‍ययन के लिए हिलगार्ड स्‍कॉलरशिप परीक्षा पास किया। इस स्‍कॉलरशिप से श्‍यामला को अमेरिका आने का मौका मिला।

1960 में श्‍यामला ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी बर्कले से अपनी मास्‍टर डिग्री पूरी की। डिग्री पूरी करने के बाद वह भारत नहीं लौटीं। 1962 में श्यामला के पति डोनॉल्‍ड हैरिस से उनकी पहली बार मुलाकात मुलाकात हुई। उस वक्‍त वह एक अमेरिकी-अफ्रीकी संघ को संबोधित कर रहे थे। श्यामला उनके भाषण से बहुत प्रभावित हुई थीं। कमला ने कहा कि उनकी मां की उनके जीवन में अहम भूमिका है। उन्‍होंने कहा कि मेरी मां ने मुझे और मेरी बहन माया को सिखाया कि आगे बढ़ते रहना हमारे और अमेरिका की हर पीढ़ी पर निर्भर करता है। कमला को उनकी मां की सलाह हर रोज प्रेरित करती है। यहीं कारण है कि आज हैरिस इस मुकाम तक पंहुच पाई है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags