लाहौर। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए लंदन जाने को तैयार हैं। दरअसल, लाहौर उच्च न्यायालय ने उन्हें उपचार के लिए चार सप्ताह तक विदेश यात्रा की अनुमति दे दी है। अदालत के आदेश के अनुसार, उनके डॉक्टरों की सिफारिशों पर चार सप्ताह की अवधि और बढ़ाई जा सकती है। 69 वर्षीय नवाज शरीफ अनियमित प्लेटलेट काउंट सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे हैं। फिलहाल लाहौर के पास उनके निवास पर आईसीयू स्थापित कर उनका इलाज किया जा रहा है।

न्यायमूर्ति बकर नजफी की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने छह घंटे से अधिक की मैराथन सुनवाई के बाद फैसले की घोषणा की। लाहौर कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि शरीफ विदेश (लंदन) की यात्रा कर सकते हैं और वहां चार सप्ताह तक रह सकते हैं। उनके वहां रुकने के समय में विस्तार किया जा सकता है, जो उनकी मेडिकल रिपोर्ट पर निर्भर होगा। कोर्ट ने इमरान खान सरकार को आदेश दिया है कि वह नो-फ्लाई लिस्ट या एक्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) से शरीफ का नाम हटाए।

बुधवार को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार ने 7.5 अरब रुपए से अधिक के बॉन्ड को भरने के बाद नवाज शरीफ को चार सप्ताह के लिए विदेश यात्रा के लिए एक बार अनुमति दी थी। गुरुवार को पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) सुप्रीमो ने लाहौर कोर्ट में इस शर्त को चुनौती देते हुए इसे अवैध करार दिया था। पीएमएल-एन ने कहा कि तीन बार प्रधानमंत्री रहे शरीफ के लिए हर घंटा उनके स्वास्थ्य के लिहाज से अहम है। अगर इस देरी के कारण उसके साथ कुछ भी होता है, तो प्रधानमंत्री इमरान खान इसके जिम्मेदार होंगे।

नवाज शरीफ ने यह कहते हुए बॉन्ड जमा करने से इनकार कर दिया था कि यह इमरान खान का एक जाल है, जिसे वह अपने राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। पीएमएल-एन के एक नेता ने कहा कि अदालत के फैसले के बाद नवाज शरीफ कुछ दिनों में लंदन के लिए रवाना हो सकते हैं। बताते चलें कि नवाज शरीफ को हाल ही में अल-अजीजिया मिल्स भ्रष्टाचार मामले में इस्लामाबाद उच्च न्यायालय से चिकित्सा आधार पर आठ सप्ताह की जमानत मिली है, जिसमें वह सात साल की जेल की सजा काट रहे थे। वहीं, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भी उन्हें अदालत से जमानत भी मिल गई है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai