QUAD Leader's Summit : वॉशिंगटन में क्वाड नेताओं के अहम सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ताके, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हिस्सा लिया। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की मेजबानी में व्हाइट हाउस में आयोजित इस बैठक में पीएम मोदी ने याद दिलाया कि जब ये चार देश पहली बार 2004 में मिले थे, जब भारत-प्रशांत सागर क्षेत्र में सुनामी को लेकर मदद पर चर्चा हुई थी। आज हम सभी कोविड-19 महामारी से जूझ रहे हैं और एक बार फिर मानव हित इस सम्मेलन का केन्द्र-बिन्दु है। उन्होंने क्वाड को मानवता के हित में एक अहम फोर्स की भूमिका निभाने की वकालत की।

Our four nations met for the first time after 2004 Tsunami to help the Indo-Pacific region. Today, when the world is fighting against #COVID19 pandemic, we have come here once again as Quad for the welfare of humanity: PM Narendra Modi's opening remarks at Quad Leaders' Summit pic.twitter.com/RQwNUQ8V73

— ANI (@ANI) September 24, 2021

बैठक में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने भारत-प्रशांत महासागर क्षेत्र को मुक्त और स्वतंत्र रखने की जरुरत पर बल देते हुए कहा कि इस इलाके की समृद्धि के लिए ऐसा होना बहुत जरूरी है। आपको बता दें कि इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती दखलअंदाजी से जापान, भारत और ऑस्ट्रेलिया सभी चिंतित हैं।

वहीं जापानी प्रधानमंत्री ने भी क्वाड की उपयोगिता पर हल देते हुए कहा कि ये उन चार देशों द्वारा शुरु किया गया बहुत अहम प्रयास है, जो बुनियादी अधिकारों पर भरोसा करते हैं इंडो-पैसिफिक क्षेत्र को मुक्त और खुला रखना चाहते हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस बैठक में क्वाड फेलोशिप की घोषणा करते हुए कहा कि सभी चार देशों के छात्रों को यूएस में एडवांस स्तर की पढ़ाई के लिए फेलोशिप दी जाएगी। ये भविष्य के नेता, आविष्कारक और अपने क्षेत्र में महारत हासिल करनेवालों के लिए निवेश होगा।

बैठक से पहले ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री से मुलाकात

उधर, पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की मेजबानी में होने वाली पहली प्रत्यक्ष क्वाड (Quad summit) समिट से पहले ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन (Scott Morrison) से मुलाकात की। इस दौरान दोनों नेताओं ने आर्थिक एवं लोगों के बीच संपर्क को और बढ़ाने से जुड़े विषयों पर व्यापक चर्चा की। कुछ दिनों पहले दोनों नेताओं ने फोन पर बातचीत के दौरान भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी में प्रगति की समीक्षा की थी।

Posted By: Shailendra Kumar