लंदन। ब्रिटेन के एक प्रमुख संगठन ने बयान जारी कर कहा है कि ब्रिटेन के चुनाव में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की कंजरवेटिव पार्टी की जीत से वहां का मुस्लिम समुदाय डर महसूस कर रहा है। मुस्लिम काउंसिल ऑफ ब्रिटेन (एमसीबी) ने चुनाव के दौरान कंजरवेटिव पार्टी की ओर से लगे इस्लामोफोबिया को भूनने के लिए ओवन तैयार के नारे की जांच की मांग भी की है। यह नारा चुनाव के प्रमुख नारों में काफी प्रसिद्ध रहा। अब जबकि कंजरवेटिव पार्टी ज्यादा मजबूती के साथ सत्ता में फिर से आ गई है तब यहां के मुस्लिमों को अपने भविष्य की चिंता हो रही है।

एमसीबी के महासचिव हारुन खान ने कहा है कि बोरिस जॉनसन को चुनाव में स्पष्ट बहुमत मिला है लेकिन पूरे देश का मुस्लिम समुदाय इससे भय महसूस कर रहा है। हम इस्लामोफोबिया के लिए ओवन रेडी वाले नारे को लेकर काफी चिंतित हैं। हमारी प्रार्थना है कि जॉनसन अपनी राजनीतिक ताकत का उपयोग ब्रिटेन को जिम्मेदार बनाने में करें। उन्होंने कहा, ताजा चुनाव हाल के दशकों का सबसे ज्यादा विभाजनकारी चुनाव रहा है। इसमें जीतने के लिए भेदभाव पैदा करने वाले नारे लगाए गए और इसके जैसे आपत्तिजनक कार्य किए गए। लेकिन अब चुनाव खत्म हो गए हैं इसलिए नए प्रधानमंत्री और उनकी सरकार को राष्ट्रीय एकता और सामाजिक एकजुटता के लिए कार्य करना चाहिए।

हारुन ने कहा, हम मानते हैं कि प्रधानमंत्री अब एकजुट राष्ट्र का नारा बुलंद करेंगे और सभी समुदायों को साथ लेकर चलेंगे। इस चुनाव में मुस्लिम समुदाय का समर्थन लेबर पार्टी को रहा था। पार्टी नेता जेरेमी कॉर्बिन ने ब्रिटेन में खुद को मुस्लिमों का सबसे बड़ा हितैषी बताने की कोशिश की थी। चुनावी चर्चा के दौरान ही लेबर पार्टी ने हाउस ऑफ कॉमंस में जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत विरोधी प्रस्ताव पारित भी करवाया था, जिसको बाद बाद सरकार ने खारिज कर दिया था। इस प्रस्ताव और अनुच्छेद 370 हटाने के विरोध में भारतीय उच्चायोग पर हुए प्रदर्शन ने ब्रिटिश- भारतीय समुदाय को लेबर पार्टी का विरोधी बना दिया। प्रदर्शन को लेबर पार्टी के बड़े नेताओं का समर्थन था। नतीजतन, भारतीय समुदाय एकजुट होकर कंजरवेटिव पार्टी के साथ आया और उसकी चुनावी जीत को प्रभावशाली बनाया।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Independence Day
Independence Day