जिनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शनिवार को अस्पताल में भर्ती COVID-19 रोगियों के इलाज के लिए मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन और एचआईवी दवा लोपिनविर/रिटोनाविर (lopinavir/ritonavir) के संयोजन को रोक दिया है। यह फैसला अस्पताल में भर्ती मरीजों की मृत्यु दर में कोई कमी नहीं आने पर किया गया है। इन अंतरिम परीक्षण परिणामों से पता चलता है कि देखभाल के मानक की तुलना में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन और लोपिनविर/ रीटोनाविर अस्पताल में भर्ती कोरोना रोगियों की मृत्यु दर में बहुत कम या कोई कमी नहीं करते हैं।

डब्ल्यूएचओ ने एक बयान में कहा है कि सॉलिडैरिटी ट्रायल इन्वेस्टीगेटर्स (परीक्षण जांचकर्ता) तत्काल प्रभाव से परीक्षणों को रोक देंगे। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि यह निर्णय अब उन अन्य अध्ययनों को प्रभावित करेगा, जहां दवाओं का उपयोग गैर-अस्पताल में भर्ती होने या प्रोफिलैक्सिस के रूप में किया जा रहा है। इस बीच, WHO ने 24 घंटे में वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस के कुल दो लाख 12 हजार 326 नए मामले दर्ज किए हैं।

एजेंसी ने आगे कहा कि पिछले 24 घंटों में 5,134 मौतें हुई हैं और कुल मिलाकर अब तक पांच लाख 23 हजार 11 लोगों की मौत हो चुकी है। एक दैनिक रिपोर्ट के अनुसार, सबसे बड़ी वृद्धि संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील और भारत की थी। WHO ने 11 मार्च को COVID-19 के महामारी फैलने की घोषणा की थी।

वहीं दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या, शुक्रवार के दिन के आंकड़ों को मिलाकर 1.1 करोड़ से अधिक हो गई। इस महामारी ने सात महीनों में पांच लाख से ज्यादा अधिक लोगों को मार दिया है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस