World Toilet Day 2019: भारत में जहां खुले में शौच (Open Defecation in India) के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है, वहीं अमेरिका में ऐसा स्मार्ट टॉयलेट (Smart Toilet) बना गया है, जो व्यक्ति के मल की तत्काल जांच कर रिपोर्ट जारी कर देगा कि उसके कहीं कोई बीमारी तो नहीं? या उसके मल में कहीं कोई ऐसी चीज तो नहीं जिसकी ओर सेहत के लिहाज से ध्यान देने की जरूरत है। यह स्मार्ट टॉयलेट विस्कॉन्सिन मैडिसन यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट बेन एंडरसन ने बनाया है। एंडरसन के मुताबिक, यह स्मार्ट टॉयलेट बता देगा कि व्यक्ति ने कितनी कॉफी या शराब पी। जो खाना खाया था वो ठीक से पचा है या नहीं। जो दवाएं ली थीं, उनका असर हुआ या व्यर्थ बह गईं।

एंडरसन ने आगे बताया कि स्मार्ट टॉयलेट सबसे पहले मल-मूत्र को स्टोर करता है। इसके बाद मल और मूत्र को अलग-अलग करके जांच करता है। यह काम टॉयलेट में लगे खास पाइप के जरिए होता है। मल-मूत्र की पूरी रिपोर्ट स्पेक्टोमीटर पर डिस्पेल हो जाएगी जो टॉयलेट शीट पर बैठे व्यक्ति के सामने लगी होगी।

एंडरसन और उनके साथी वैज्ञानिकों का कहना है कि मल महज वेस्ट नहीं, बल्कि इन्सान की सेहत की पूरी जानकारी दे सकता है। यह एक क्रांतिकारी टॉयलेट है, जिसको सेहत के साथ जोड़ा जा रहा है। आगे कोशिश की जा रही है कि यहां रोज-रोज का डाटा इकट्ठा रहे, ताकि व्यक्ति की सेहत पर पूरी नजर रखी जा सके। टीम अभी इस पर काम कर रही है और तीन महीने में प्रोटोटाइप तैयार कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: 1 दिसंबर से महंगी होगी वोडा आइडिया और एयरटेल की सर्विस

Posted By: Arvind Dubey