मुंबई, 24 मई, 2022: मिरे एसेट फाउंडेशन (एमएएफ), भारत में मिरे एसेट के कारोबार की सीएसआर शाखा ने आईएचडब्ल्यू इंटीग्रेटेड हेल्थ एंड वेल-बीइंग काउंसिल द्वारा प्रदान किया जाने वाला सीएसआर कोविड प्रोटेक्शन प्रोजेक्ट - सीएसआर हेल्थ इम्पैक्ट अवार्ड की श्रेणी के तहत प्रतिष्ठित गोल्ड अवार्ड (स्वर्ण पुरस्कार) जीता है। यह पुरस्कार मुफ्त कोविड टीकाकरण अभियान के लिए प्रमुख परियोजनाओं के माध्यम से कोविड-19 से लड़ने के लिए फाउंडेशन द्वारा किए गए सराहनीय कार्य और परीक्षण संस्थानों को उच्च तकनीक वाले कोविड परीक्षण उपकरण दान करने के लिए दिया गया है।

सीएसआर हेल्थ इम्पैक्ट अवार्ड्स के छठे संस्करण ने एक मान्य प्रक्रिया के माध्यम से स्वास्थ्य, स्वच्छता और पर्यावरण के क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ सीएसआर परियोजनाओं और प्रथाओं की पहचान की और नए दृष्टिकोणों, नवाचारों, विधियों, तकनीकों को पुरस्कृत किया जिनमें व्यापक प्रभाव वाले समुदायों को लाभान्वित करने और दुनिया के स्वास्थ्य को आकार देने की क्षमता है।

नई दिल्ली में 19 मई, 2022 को आयोजित एक समारोह में श्री रामदास आठवले, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री, और श्री अश्विनी कुमार चौबे, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री, भारत सरकार द्वारा पुरस्कार प्रदान किए गए।

मिरे एसेट फाउंडेशन के निदेशक श्री रितेश पटेल ने पुरस्कार स्वीकार करते हुए कहा, “यह पुरस्कार महामारी के कठिन समय के दौरान मिरे एसेट फाउंडेशन द्वारा किए गए निस्वार्थ योगदान और जमीनी स्तर पर की गई कड़ी मेहनत का प्रमाण है। जब महामारी के चरम पर वैक्सीन की पहुंच एक चुनौती थी, फाउंडेशन ने मुंबई में 15,000 से अधिक नागरिकों का टीकाकरण किया और परीक्षण संस्थानों को उनकी परीक्षण क्षमताओं को तेज करने के लिए आधुनिक उपकरण भी दान किए। हम आईएचडब्ल्यू परिषद और उसके जूरी सदस्यों के आभारी हैं जिन्होंने हमारे प्रयासों को मान्यता दी और हमें सीएसआर कोविड प्रोटेक्शन प्रोजेक्ट श्रेणी में गोल्ड अवार्ड से सम्मानित किया।

मिरे एसेट फाउंडेशन ने हाल ही में अपना एजुकेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर सपोर्ट प्रोग्राम (शिक्षा क्षेत्र में ढांचागत सहयोग कार्यक्रम) भी लॉन्च किया है, जिसमें शिक्षा क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ / संस्थान, जिन्हें पूरे भारत के 21 से अधिक शहरों में फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर फंडिंग सपोर्ट (भौतिक ढांचा तैयार करने के लिए राशि) की जरूरत है, उन्हें चुनिंदा रूप से 5 लाख रुपये तक का अनुदान दिया जा सकता है, जिसके लिए आवेदन की समय सीमा 31 मई, 2022 को समाप्त हो रही है। यह फाउंडेशन द्वारा अब तक प्रदान की गई 550+ छात्रवृत्ति के अलावा, प्राथमिक और उच्च शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यकता सह योग्यता के आधार पर है l

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close