भारतीय स्टार्ट-अप अपनी कंपनियों में नई भर्ती का दौर 2022 में भी जारी रखेंगे, और इस पर कोविड-19 की तीसरी लहर का असर होने की कोई संभावना नहीं है। जैसे जैसे ग्राहकों का रुझान समय के साथ बदलते हाई टेक उत्पादों की और बढ़ता जा रहा है, वैसे वैसे स्टार्टअप अपने कार्यबल में भी वृद्धि कर रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक़, भारत में बेरोज़गारी बढ़ती जा रही है। लेकिन स्टार्टअप की बढ़ती संख्या को देखते हुए, रोज़गार में भी वृद्धि देखने को मिल रही है। जैसे-जैसे स्टार्टअप बढ़ते हैं और अपने व्यवसायों का विस्तार करते हैं, वैसे वैसे वह विविध कार्य अवसर भी प्रदान करते हैं। इस सामूहिक भर्ती को आए बढ़ाते हुए, इस वित्तीय वर्ष में आर्किटेक्चर, टेक्नोलॉजी, एनालिटिक्स, इंजीनियरिंग, सेल्स और व्यावसायिक कार्य जैसी विभिन्न भूमिकाओं में अपने कार्यबल का विस्तार करने की योजना बना रहा है। Makemyhouse.com के सह-संस्थापक हुसैन जोहर ने बताया क‍ि, “हमारा मजबूत प्रदर्शन और बाजार हिस्सेदारी, इस बात का प्रमाण है की हमारे ग्राहक अपने घर को डिजाईन करने, और उसे बेहतर बनाने की प्रक्रिया के लिए हम पर पूरा भरोसा करते हैं। हम विभिन्न क्षेत्रों में 200 से ज्यादा नौकरियां देकर अपने कर्मचारी अनुपात को 40% तक बढ़ाना चाहते हैं।”

भारत में तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम

भारत में विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम है। औद्योगिक संवर्धन और आंतरिक व्यापर विभाग द्वारा भारत में 3 जून 2021 तक लगभग 50,000 स्टार्टअप होने का दावा किया गया है। इस साल के शुरुआत में सरकार द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, सिर्फ 2020-21 की अवधि में इन स्टार्टअप द्वारा अनुमानित 1.7 लाख नौकरियां निर्मित की गईं हैं।

Posted By: Navodit Saktawat