बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। रेलवे स्टेशन में जिस उद्देश्य से चाइल्ड लाइन केंद्र स्थापित किया गया, वह लगातार सार्थक साबित हो रही है। इस टीम की सक्रियता की वजह से घर से भागे या बिछड़े बच्चे गुमशुदा होने से बच जा रहे हैं। एक और बार बालक को गुम होने से टीम ने बचाया। वह घर से केवल इसलिए भाग गया कि छोटी- छोटी बातों के लिए माता-पिता डांटते थे। टीम ने न केवल बालक को समझाया, बल्कि स्वजनों को भी सुझाव दिया। सूचना मिलते ही स्वजन केंद्र पहुंचे। जहां बालक को उनके सुपुर्द कर दिया गया।

यह बालक रेलवे चाइल्ड लाइन की टीम को आउटरीच के दौरान मिला। बालक अपने घर में बिना किसी को बताए भागकर आया था। टीम ने जब बालक को अकेले देखा, तब उन्होंने पूछताछ की। वह काफी देर से बिलासपुर रेलवे स्टेशन में अकेले ही घूम रहा था। बालक रायपुर का निवासी है। टीम को बालक ने बताया कि वह इसलिए घर छोड़कर भाग गया, क्योंकि माता -पिता बालक हर छोटी छोटी बातों के लिए डांटते हैं। वह मंगलवार को घर से निकलकर पहले लोकल ट्रेन से दुर्ग स्टेशन गया। वहां कुछ समय बिताने के बाद बालक को कुछ समझ नहीं आया तो वह ट्रेन में बैठकर बिलासपुर रेलवे स्टेशन आ गया।

स्टेशन में अकेले घूम रहा था तभी रेलवे चाइल्ड लाइन की टीम की नजर उस पर पड़ी। जानकारी लेने के बाद रेलवे चाइल्ड लाइन की टीम द्वारा रायपुर थाने में बालक के बारे में पतासाजी की। जहां टीम को जानकारी प्राप्त हुई की बालक के मिसिंग होने की सूचना संबंधित थाने में दर्ज है। बालक को रेलवे चाइल्ड लाइन की टीम के द्वारा बाल कल्याण समिति के समझ प्रस्तुत किया गया। इसके बाद स्वजनों को जानकारी दी गई। उनके बिलासपुर पहुंचने के बाद सकुशल स्वजनों को सौंप दिया गया। हालांकि स्वजनों को भी चाइल्ड लाइन के सदस्यों द्वारा समझाया गया।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close