बिलासपुर। Bilaspur Railway News: विजिलेंस व जीएसटी टीम की छापामार कार्रवाई के बाद पार्सल कार्यालय में सख्ती कर दी गई है। लोडिंग व अनलोडिंग दोनों के पार्सल के बिल की बारीकी से जांच हो रही है। इसके अलावा शपथ पत्र के नियम में कड़ाई का पालन किया जा रहा है। दरअसल जीएसटी ने जांच के दौरान रेल कर्मचारियों की जानकारी दी है कि किसी भी बिल में गड़बड़ी कैसे परखनी है। कर्मचारियों के साथ-साथ अब अधिकारियों को भी नियमित जांच करने का फरमान है।

पिछले दिनों रेलवे बोर्ड में शिकायत हुई थी कि ट्रेन से परिवहन होने वाले पार्सल में जीएसटी की चोरी हो रही है। बोर्ड ने इस शिकायत को न केवल गंभीरता से लिया, बल्कि अन्य जोन की तरह दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को भी निर्देश देकर 48 घंटे का अभियान चलाने के लिए कहा। जोन की विजिलेंस टीम व कमर्शियल विभाग के अधिकारियों ने जीएसटी टीम के साथ मिलकर पार्सल कार्यालय में छापामार कार्रवाई की। अभियान तो खत्म हो गया है।

लेकिन रेल मंडल ने इस तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए पार्सल कार्यालय को सख्त निर्देश दिए हैं कि अब से हर एक पार्सल के बिल की जांच होगी। जांच के दौरान एक- एक चीजों को बारीकी से देखा जाएगा। इसी के तहत कार्यालय के कर्मचारी सख्ती बरतकर उन सभी पार्सलों के बिल की जांच कर रहे हैं, जो बुक हुए हैं या फिर से दूसरी जगह से बुकिंग के बाद कार्यालय में पहंुच रहे हैं।

एकाएक इस तरह की सख्ती से लीज होल्डर के साथ व्यापारी सकते में हैं। कर्मचारियों को जिस पार्सल में जरा भी संदेह हो रहा है उसके मालिक, यदि मालिक नहीं है तो एजेंट से एक शपथ पत्र भी लिया जा रहा है। जिससे की यदि जीएसटी चोरी की गड़बड़ी मिलती है तो वह खुद इसके लिए जिम्मेदार रहे। रेलवे पर किसी तरह का आरोप न लगे।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags