बिलासपुर। चौथी लाइन को सेक्शन से जोड़ने, आंध्रप्रदेश व ओडिशा में चक्रवात के कारण रेलवे अब तक 40 से अधिक ट्रेनों को रद कर चुकी है। इसके चलते यात्री परेशान हंै। कहीं न कहीं इससे रेलवे को भी भारी नुकसान हो रहा है। दो से तीन दिन में बिलासपुर और रायपुर रेल मंडल में रेलवे 30 लाख रुपये से अधिक रिफंड दे चुकी है। यह आंकड़ा और भी बढ़ेगा।

अधोसंरचना विकास के लिए बिलासपुर रेल मंडल अंतर्गत बेलपहाड-हिमगीर सेक्शन को चौथी लाइन से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। 10 दिसंबर तक होने वाले इस कार्य के चलते हावड़ा और मुंबई के बीच चलने वाली 35 ट्रेनों को अलग-अलग तारीख में रद कर दी गई है। इनमें अप व डाउन डाउन दोनों दिशा की ट्रेनें शामिल हैं। इसके अलावा चक्रवात के कारण भी रेलवे ने उत्कल सहित अन्य ट्रेनों को रद कर दी है।

चूंकि ट्रेन रद रेलवे ने की है, इसलिए यात्रियों को टिकट रद कराने पर पूरा रिफंड देना पड़ रहा है। इसके चलते रेलवे को नुकसान भी हो रहा है। जिसकी भरपाई मुश्किल है। हालांकि 30 लाख का आंकड़ा और बढ़ेगा, क्योंकि रद कराने का सिलसिला जारी है। रेलवे की माने तो रद ट्रेनों में बिलासपुर और रायपुर मंडल से करीब पांच से छह हजार से अधिक यात्री प्रतिदिन सफर करते हैं। इसके हिसाब से टिकट रिफंड करने वाले यात्रियों की संख्या लगभग 30 हजार से ज्यादा है।

सीजन में ट्रेन रद से बढ़ी परेशानी

इन दिनों शादी का भी सीजन चल रहा है। इसके अलावा कोरोनाकाल में लंबित कार्यों को लोग पूरा करने के लिए एक से दूसरे शहर आवाजाही कर रहे हैं। बरात के लिए कुछ ट्रेनों में समूह में बुकिंग कराई गई है। पर ट्रेन रद होने से दूसरे संसाधन का विकल्प ढूंढना पड़ रहा है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local