दुर्ग। शहर वासियों की आस्था का केंद्र मां चंडी मंदिर का इतिहास 200 वर्ष पुराना है। चंडी माता मां दुर्गा का स्वरूप है। मंदिर में मां काली, मां लक्ष्मी और सरस्वती की प्रतिमा विराजित है। वैसे तो मंदिर में सालभर श्रद्धालु माता का दर्शन करने आते हैं लेकिन चैत और क्वांर नवरात्र में बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

मठपारा स्थित मां चंडी मंदिर के इतिहास को लेकर अलग-अलग मान्यता है। पुराने जानकारों का कहना है कि मां चंडी यहां कुंड में विश्राम कर रही हैं। मंदिर के पुजारी गिरीराज प्रसाद शर्मा ने बताया कि मंदिर का इतिहास वर्षों पुराना है। यहां मां चंडी दुर्गा के स्वरूप में विराजित हैं।

मंदिर के भीतर मां काली, लक्ष्मी और सरस्वती की प्रतिमा है। उन्होंने बताया कि मंदिर में करीब 50 साल से जोत कलश जलाया जा रहा है। इसकी शुरुआत 11 जोत कलश से हुई थी। इस क्वांर नवरात्र में मंदिर में 2500 जोत कलश जल रहे हैं। मठपारा में शहर के बीचों बीच स्थित मां चंडी मंदिर में नवरात्र के समय सुबह से लेकर देर रात तक श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है।

मंदिर का कराया गया जीर्णोद्धार

कुछ साल पहले मां चंडी मंदिर का जीर्णोद्धार कराया गया है। मंदिर के जीर्णोद्धार में राजस्थान के लाल पत्थर का उपयोग किया गया है। मंदिर का प्रवेश द्वार नक्काशीदार बनाने के साथ ही इसकी ऊंचाई भी बढ़ाई गई है। पुरातत्व विभाग द्वारा कुछ साल पहले मंदिर की खोदाई की गई थी। खोदाई में रिंग वेल व हाथी दांत के बने गहने मिले।

नवरात्र पर पदयात्रियों के लिए खुर्सीपार में सेवा पंडाल

नवरात्र में पदयात्रियों के लिए खुर्सीपार में सेवा पंडाल शुरू किया गया है। इस पंडाल में पदयात्रियों के लिए सभी तरह की सुविधाओं का ख्याल रखा गया है। एसटी आयोग के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार साय ने इसकी शुरुआत की। सेवा पंडाल में पूजा-अर्चना कर मां का आशीर्वाद लिया और सेवा पंडाल के लिए औपचारिकता पूर्ण शुरुआत की।

इस कार्य के लिए बोल बम सेवा एवं कल्याण समिति के अध्यक्ष व भाजपा पार्षद दया सिंह सराहना की । दया सिंह ने कहा कि, इस तरह के नेक काम और सेवा कार्य करते रहें। मातारानी की कृपा हमेशा अवश्य रहेगी। नंदकुमार साय ने दया से कहा कि आने वाले वर्ष में इस तरह के और भव्य पंडाल नजर आने चाहिए।

सभी सुविधाओं का रखा गया ख्याल

अध्यक्ष दया सिंह ने बताया कि सेवा पंडाल में सुबह से लेकर शाम तक चाय-नाश्ता मिलेगा। पोहा जलेबी से लेकर उपमा, छोले बटुरे, खीरा-पुड़ी व्यंजन बनाए जाएंगे। पूरे नवरात्रि के नौ दिन के लिए मैन्यू बनाया गया है।

गरम पानी से लेकर शरबत का वितरण किया जाएगा। 24 घंटे चिकित्सकों की एक टीम तैनात रहेगी। जो हर पदयात्रियों का हेल्थ चेकअप करेगी। पांव में पड़ने वाले छालों को भी देखेगी।

महिला पदयात्रियों के लिए महिलाओं की टीम को तैनात की गई है। रात में दूध और चाय भी मिलेगा। उपवास वालों के लिए फ्रूट का इंतजाम किया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close