कोरबा । इसे अंध आस्था, अंधविश्‍वास कहें या ईश्वर के प्रति असीम आसक्ति, एक साधक ने अपनी भक्ति प्रकट करने जुबान काटकर शिव को अर्पण कर दिया। घटना छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के ग्राम सेंद्रीपाली की है।

वहां सावन के पहले दिन यानी बुधवार को लक्ष्मी प्रसाद ने गांव से अलग नाले के किनारे कुटिया बनाई और उसमें शिवलिंग स्थापित किया। इसके बाद विधि-विधान से पूजा-पाठ कर अपनी जीभ काटकर शिवलिंग में अर्पित कर दिया। पांच दिन से वहीं पर रहकर वह महादेव की उपासना में लीन है। प्रतिदिन नारियल, अगरबत्ती, बेल पत्र व फूल समेत पूजा-पाठ की सामग्री लेकर लोग बड़ी संख्या में वहां पहुंच रहे हैं।

अद्भुत नजारा : जब बादल खींचने लगे तालाब का पानी, देखें VIDEO

बिना किसी को बताए निकल गया था

लक्ष्मी प्रसाद के परिजनों का कहना है कि वह बिना बताए ही बुधवार की सुबह घर से निकल गया था। पूरे दिन जब वह घर नहीं लौटा तो चिंतित होकर परिजन उसकी तलाश में निकले। पूरा गांव छानने के बाद वह नाले के पास कुटिया में मिला, जिसमें स्थापित शिवलिंग में अर्पित की गई जीभ नजर आई। परिजनों का कहना है कि बचपन से ही शिव के प्रति उसमें गहरी आस्था रही है।

Korba Murder : हत्या के बाद निर्वस्त्र अवस्था में महिला की लाश दफनाई

Ramayana Circuit : यहां से गुजरे थे प्रभु राम, अब पदचिह्नों की कथा बताएगा पर्यटन मंडल

नवविवाहिता से दुष्कर्म, फिर शादी का झांसा देकर कराया तलाक, प्रेग्नेंट होने पर छोड़ा