रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Literacy In Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ में प्रौढ़ शिक्षार्थी बाकायदा टेबल-कुर्सी पर बैठकर 30 सितंबर को परीक्षा देंगे। महापरीक्षा प्रात: 10 बजे से शाम पांच बजे तक होगी। इनके लिए पढ़ना-लिखना अभियान के तहत 50 अंक का पर्चा बनाया गया है। यह परीक्षा तीन घंटे के लिए होगी। प्रश्न पत्र में प्रौढ़ शिक्षार्थी के पढ़ने-लिखने, गणित में जोड़-घटाने को लेकर आकलन होगा। इसमें ढाई लाख प्रौढ़ शिक्षार्थी शामिल होंगे। प्रत्येक भाग 50 अंकों का होगा और सभी प्रश्नों का उत्तर देना अनिवार्य किया गया है। प्रश्न-उत्तर पुस्तिका का वितरण चार से पांच शिक्षर्थियों की उपस्थिति के बाद ही किया जाएगा।

पर्यवेक्षकों के लिए यह जरूरी है

परीक्षा मेें शामिल होने शिक्षार्थी का नाम लिखना जरूरी होगा

स्कूल शिक्षा विभाग के पोर्टल में नाम दर्ज होना जरूरी है

केंद्र प्रभारी, मूल्यांकनकर्ता या पर्यवेक्षक शिक्षार्थी का आंकलन करेंगे

परीक्षा के बाद प्रश्न-उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन होगा

शिक्षार्थी का नाम सीजीस्कूलडाटइन पोर्टल में अपलोड होगा

जानकारी समय पर देंगे अफसर

अधिकारियों ने बताया कि शिक्षार्थी परीक्षा में शामिल हो जाएं इसके लिए कम से कम तीन दिवस पूर्व ग्राम और वार्ड प्रभारी स्वयंसेवी शिक्षक की सहायता से प्रत्येक पंजीकृत शिक्षार्थी के घर-घर संपर्क कर शिक्षार्थी पर्ची का वितरण किया जाएगा। जिसमें शिक्षार्थी का नाम, नामांकन क्रमांक, परीक्षा की तिथि, समय व परीक्षा केंद्र का नाम स्पष्ट लिखा होगा।

अधिकारियों को दिए हैं निर्देश

राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण के संचालक एवं सदस्य सचिव डी. राहुल वेंकट ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों और जिला परियोजना अधिकारी साक्षरता मिशन को महापरीक्षा अभियान को सफल बनाने के लिए निर्देश जारी किया है।

वर्जन

परीक्षा केंद्रों में शिक्षार्थी के लिए पेयजल, प्रकाश व्यवस्था, बैठने के लिए टेबल-कुर्सी की समुचित व्यवस्था की जा रही है।

- प्रशांत कुमार पांडेय, सहायक संचालक

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local