रायपुर। छत्‍तीसगढ़ के बहुचर्चित कारोबारी प्रवीण सोमानी अपहरणकांड को लेकर एक बड़ी खबर आई है। दरअसल, इस अपहरणकांड की जांच में जुटे पुलिसकर्मियों का इंक्रीमेंट होगा। गृह विभाग से जारी आदेश के मुताबिक कुल 65 पुलिसकर्मियों का वेतन वृद्धि होगा। इसमें 6 राज्य पुलिस सेवा के अधिकारी, 5 निरीक्षक, 2 उप निरीक्षक, 3 सहायक उप निरिक्षक, 12 प्रधान आरक्षक और 37 आरक्षक शामिल हैं। बतादें कि कारोबारी प्रवीण सोमानी का अपहरणकांड जल्द सुलझाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वेतन वृद्धि की घोषणा की थी। इस लेकर गृह विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।

जानिए पूरा मामला

बतादें कि रायपुर के औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा के उद्योगपति प्रवीण सोमानी अपहरण कांड मामले में पुलिस ने उत्तर प्रदेश से आधा दर्जन आरोपितों को गिरफ्तार किया था, लेकिन अपहरण का मास्टर माइंड आरोपित पप्पू चौधरी फरार था। रायपुर पुलिस पिछले दो साल से उसकी तलाश कर रही थी। इसी बीच सूरत पुलिस ने पप्पू चौधरी को गिरफ्तार किया है।

प्रवीण सोमानी अपहरण कांड का मास्टर माइंड है पप्पू चौधरी

दरअसल पप्पू चौधरी को गुजरात की वापी पुलिस ने मुंबई के हीरा कारोबारी के अपहरण के एवज में 30 करोड़ रुपये की फिरौती की रकम लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया था तबसे पप्पू चौधरी सूरत जेल में है। ज्ञात हो कि आठ जनवरी, 2020 को उद्योगपति प्रवीण सोमानी सिलतरा स्थित अपनी फैक्ट्री से घर के लिए निकले थे। इसी दौरान अपराधियों ने उनका अपहरण कर लिया था। उद्योगपति के अपहरण के बाद राजधानी में सनसनी फैल गई थी। उद्योगपति की तलाश के लिए पुलिस के उच्चाधिकारियों पर सरकार के लोगों के साथ उद्योगपतियों ने दबाव बनाया था। अपहरण कांड की गुत्थी सुलझाना पुलिस के लिए चुनौती बन गई थी।

लिहाजा बड़े अफसर पल-पल की खबर आइजी और एसएसपी से ले रहे थे। मामले में छानबीन के बाद उसके उत्तर प्रदेश में होने का पता चला। तकरीबन एक पखवाड़े बाद रायपुर पुलिस ने सोमानी को उत्तर प्रदेश से सकुशल छुड़ा लिया थी। इस मामले में पुलिस ने अनिल चौधरी, मुन्ना नाहक, कालिया, प्रदीप उर्फ बाबू सहित आधा दर्जन लोगों को गिरफ्तार किया था, लेकिन गिरोह का सरगना पप्पू चौधरी फरार था। पप्पू चौधरी की तलाश पुलिस पिछले दो साल से कर रही थी।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close