रायपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संकट के नाम पर पिछले करीब दो साल से रेलवे ने मासिक पास(एमएसटी) बंद कर रखा था, इसकी वजह से यात्रियों की जेब ढीली हो रही थी। मासिक पास की सुविधा बंद होने से इसका लाभ उठा रहे रायपुर रेल मंडल के करीह छह हजार यात्रियों को हर महीने 16 सौ रुपये अधिक खर्च कर ट्रेनों में सफर करने को मजबूर होना पड़ रहा था,लेकिन रविवार से दैनिक रेल यात्रियों को इससे राहत मिल गई।रेलवे बोर्ड के आदेश पर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन ने 22 महीने से बंद एमएसटी (मासिक सीजन टिकट) की सुविधा को शुरू कर दिया है। पहले दिन रायपुर रेलवे स्टेशन से 16 यात्रियों ने एमएसटी का लाभा उठाया। बोर्ड ने दो दिन पहले रायपुर समेत तीनों रेल मंडल बिलासपुर और नागपुर के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक को एमएसटी की सुविधा शुरू करने आदेश दिया था।

रेलवे अधिकारियों ने बताया कि कमर्शियल आफिसर रेलवे जोन बिलासपुर कार्यालय से जारी आदेश में जोन क्षेत्र में एमएसटी जारी करने के लिए कहा गया है। एमएसटी अनारक्षित श्रेणी की ट्रेनों के लिए ही लागू होगा। आदेश में यह भी उल्लेख किया गया है कि यात्रियों को मेल और एक्सप्रेस के भाड़े की दर के अनुसार एमएसटी का किराया देना होगा। इससे यह साफ है एमएसटी सिर्फ लोकल ट्रेनों के लिए जारी किया गया है। इसकी वजह जोन की सारी ट्रेनें रिजर्वेशन आधारित चल रही है। यूटीएस के मेल और एक्सप्रेस की टिकट जारी किए जाते हैं,लेकिन ट्रेन में इन्हें मान्य नहीं किया जाता।आदेश में रेलवे प्रशासन ने यह साफ नहीं किया है कि मासिक सीजन टिकट सुपरफास्ट ट्रेनों में लागू होगा या नहीं। रेलवे ने अपने आदेश में स्पष्ट जरूर किया है कि एमएसटी का भाड़ा मेल और एक्सप्रेस के अनुसार होगा, लेकिन टिकट अनारक्षित ट्रेनों के लिए मान्य नही होगी।

महंगे दर पर मिलेंगे टिकट

ऐसे में मासिक सीजन टिकट पहले से भी महंगे दर पर मिलेंगे। केवल लोकल ट्रेनों में ही यह आदेश लागू होगा।आदेश के बाद लोगों ने बताया कि रेलवे जोन को चाहिए कि यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए खाली दौड़ रही गाड़ियों में यात्रियों के आने-जाने के लिए सामान्य दिनों की भांति मासिक सीजन टिकट जारी करें। गौरतलब है कि रेलवे उपभोक्ता सुरक्षा सलाहकार समिति लगातार बंद की गई मासिक पास की सुविधा फिर से शुरू करने पर जोर दिया था। इसके बाद अफसरों ने रेलवे बोर्ड को प्रस्ताव भेजा था।

केवल पैसेंजर स्पेशल ट्रेनों में अनुमति

यात्रियों को एमएसटी की सुविधा केवल पैसेंजर स्पेशल ट्रेनों में ही मिलेगी।मेल या एक्सप्रेस ट्रेनों में एमएसटी के साथ यात्रा नहीं कर पाएंगे। दरअसल यह सुविधा केवल उन्हीं ट्रेनों में मिलती है, जिनमें अनरिजर्व कोच हैं।मेल या एक्सप्रेस ट्रेनों में लगे जनरल कोच वर्तमान में सेकंड सीटिंग कोच में तब्दील हो गए हैं, इसलिए यात्रियों को इसके लिए रिजर्वेशन कराना पड़ता है।

80 फीसद तक किराए की बचत

एमएसटी धारकों को इस सुविधा का इसलिए बेसब्री से इंतजार था। इससे उनकी 75 से 80 फीसद तक किराए की बचत होती है। यह सुविधा बंद होने के कारण उन्हें प्रतिदिन पूरा किराया देकर यात्रा करनी पड़ रही है। इसके चलते अतिरिक्त जेब ढीली करनी पड़ रही थी।

एमएसटी यह दर तय

भिलाई पावर हाउस 185 रूपये,दुर्ग 185 रुपये,राजनांदगांव 270 रूपये,तिल्दा 185,भाटापारा 270,बिलासपुर 440 रुपये।

एमएसटी यात्रियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद

रायपुर रेल मंडल में एमएसटी की सुविधा रविवार से शुरू कर दी गई है। पहले दिन 16 यात्रियों ने इसका लाभ उठाकर ट्रेन में सफर किया। आने वाले दिनों में एमएसटी यात्रियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। -राकेश सिंह, डायरेक्टर, रायपुर रेलवे स्टेशन

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local