मृगेंद्र पांडेय, रायपुर। Political Struggle In Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ की राजनीति में विधायकों के दमदार समर्थन के बाद अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल संगठन में मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने की तैयारी में है। कांग्रेस प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में सीएम बघेल की कोशिश है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी के नाम पर सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास हो। इस प्रस्ताव को कांग्रेस वर्किंग कमेटी में रखा जाएगा। कांग्रेस के उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो ढाई-ढाई साल के फार्मूले पर सीएम बघेल को प्रियंका गांधी का साथ मिला, लेकिन राहुल गांधी का रुझान अब भी मंत्री टीएस सिंहदेव के पक्ष में ही नजर आ रहा है।

यही कारण है कि राहुल से सीएम बघेल और सिंहदेव की मुलाकात के बाद भी बघेल के समर्थन में विधायकों का जत्था दिल्ली पहुंचा। विधायकों का नेतृत्व कर रहे बृहस्पत सिंह को सिंहदेव विरोधी के रूप में जाना जाता है।

कांग्रेस नेताओं की मानें तो प्रियंका के करीबी होने के कारण उत्तर प्रदेश चुनाव में मुख्यमंत्री बघेल को वरिष्ठ पर्यवेक्षक बनाया गया। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री को लेकर विवाद के बीच जब राहुल गांधी के आवास पर बैठक हो रही थी, तब प्रियंका गांधी के हस्तक्षेप के बाद ही मामले को आगे के लिए टाल दिया गया।

इस बैठक के बाद मंत्री सिंहदेव ने कहा था कि मामला आलाकमान के पास पेंडिंग हैं। कांग्रेस की राजनीति के जानकारों का कहना है कि राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस का एक धड़ा राहुल तो दूसरा धड़ा प्रियंका गांधी के साथ है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को राहुल गांधी के पक्ष में माना जा रहा है। राष्ट्रीय स्तर पर युवा नेताओं की टीम इस समय प्रियंका के साथ नजर आ रही है। पंजाब में जो निर्णय लिया गया, उसमें प्रियंका की भूमिका अहम थी। यहां युवा नेतृत्व को कमान सौंपी गई। वहीं, राजस्थान में युवा बनाम अनुभव का सघर्ष चल रहा है। छत्तीसगढ़ में भी यही स्थिति है।

इस तरह करवट बदल रही राजनीति

प्रदेश की राजनीति रोज करवट बदल रही है। सीएम बघेल के करीबी नेताओं ने उत्तर प्रदेश चुनाव में जिम्मेदारी मिलने के बाद दावा किया कि ढाई-ढाई साल का फार्मूला फेल हो गया। लखनऊ में प्रियंका से सीएम बघेल की मुलाकात हुई। इसके बाद मंगलवार को एक बार फिर सिंहदेव दिल्ली पहुंचे और राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की। वेणुगोपाल टीम राहुल के मजबूत स्तंभ हैं।

राहुल-पुनिया का एक महीने से हो रहा इंतजार

छत्तीसगढ़ में राहुल गांधी और पीएल पुनिया का इंतजार पिछले एक महीने से हो रहा है। दिल्ली में विधायकों की परेड के बाद पहली बार प्रदेश प्रभारी पुनिया बुधवार को रायपुर पहुंचे। गुरुवार को पुनिया प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में शामिल होंगे। उनके साथ प्रभारी सचिव चंदन यादव और सप्तगिरी शंकर उल्का भी पहुंचे हैं।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local