रायपुर। युवा देश की नींव है। समाज और देश को आगे ले जाने के लिए युवा आज बढ़-चढ़कर आगे आ रहे हैं। नई सोच और ऊर्जा के स्रोत युवा आज समाज को नई राह पर ले जाने का काम कर रहे हैं। रायपुर के कुछ युवा भी इसी सोच के साथ समाज की मदद के लिए आगे आए हैं। अमानत नाम की एक संस्था महिला सशक्तीकरण के नए दौर की कहानियां लिख रहे हैं। संस्था महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के साथ कौशल विकास और व्यक्तित्व विकास के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराने का काम कर रहे हैं, जिसका परिणाम यह है कि आज छत्तीसगढ़ की महिलाओं द्वारा तैयार किए गए उत्पाद अमेरिका और चाइना जैसे बड़े देशों में बिक रहा हैै।

सामाजिक परिस्थिति को देखकर बनाया मन -

फाउंडेशन की संस्थापिका आस्था वर्मा (अमानत) ने बताया कि जब वे किसी कार्यक्रम केे लिए बाहर जाते थे तो देखते थे कि समाज में महिलाएं स्वतंत्र नहीं थीं। उन्हें बाहर जाने के लिए इजाजत लेनी पड़ती थी। इसका कारण था कि महिलाएं पैसे नहीं कमा रही थीं, इसलिए वे बाहर नहीं निकलती थीं। तभी उन्होंने निश्चय कर लिया कि महिलाओं में आत्मविश्वास को बढ़ाना है, जिसके बाद वे बिना किसी रोक-टोक के घर के बाहर निकल सकें। इसके बाद उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर अमानत नाम की संस्था बनाई।

फिर उन्होंने महिलाओंं को सिलाई और वेस्ट पेपर से पेपर बैग और वेस्ट कपड़ो से सौन्दर्यं सामग्री बनाने का प्रशिक्षण देने लगे। धीरे-धीरे संस्था में युवा जुड़ते गए। प्रशिक्षण के साथ महिलाओं को रोजगार देने में भी फाउंडेशन पीछेे नहीं रहा। फाउंडेशन ने दिल्ली और मुंबई के बड़े फैशन डिजाइनर के साथ टाइअप करके महिलाओं कोे घर बैठे काम दिया। रोजगार मिलने बाद अब महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ गया। घर से बाहर निकलने के लिए अब उन्हें किसी को पूछना नहीं पड़ता है।

अमेरिका चाइना में बिक रहा उत्पाद

अमानत फाउंडेशन की संस्थापिका और निर्देशिका आस्था वर्मा (अमानत) बताती है कि उन्होंने प्रदेश के अलग अलग गांव की महिलाओं को अनुपयोगी कपड़े से कान की बाली, बैग और ब्रेसलेट बनाने का प्रशिक्षण दिया। उसके बाद मुंबई और दिल्ली के बड़े फैशन डिजाइनर के साथ मिलकर काम कर रहे है। मुंबई और दिल्ली के फैशन डिजाइनर अनुपयोगी कपड़े फाउंडेशन को भेजती है, जिसके बाद फाउंडेशन द्वारा प्रशिक्षित महिलाएं उन कपड़ो से सौंदर्य सामग्री बनाती है। यहां से सामग्री तैयार हो जाने के बाद उसे फैशन डिजाइनरों को भेज दिया जाता है। जिसके बाद फैशन डिजाइनर सामग्रीयोें को विदेशों में विक्रय के लिए भेज देते है। बदले में फैशन डिजाइनर से फाउंडेशन पैसा लेती और कारीगर महिलाओं को दे देती है। मांग के हिसाब से आठ से दस महिलाएं नियमित और अनियमित रूप से सत्तर महिलाएं अस्थायी रूप से बाली, बैग, ब्रेसलेट और अन्य सौंदर्य सामग्री व आर्ट वर्क बना रही हैं।

फाउंडेशन लगातार कर महिला सशक्तीकरण पर काम -

अमानत फाउंडेशन मूल रूप से समाज के विभिन्न वर्गों से आने वाले युवाओं की एक समर्पित टीम है, जो महिला सशक्तीकरण के साथ अन्य समाजसेवी कार्यों के एकत्रित हुई है। वे पहले हर राज्य के लिए राज्य प्रतिनिधि और फिर राज्य प्रमुखों के अधीन काम करने वाले जिला प्रतिनिधि को नियुक्त करके विभिन्न राज्यों में अपने कार्यबल को वितरित करके एक व्यवस्थित तरीके से काम कर रहे हैं। संस्था महिलाओं के स्वास्थ्य, स्वच्छता और शिक्षा जैसे क्षेत्रों पर मुख्य ध्यान देने के साथ समाज के समग्र विकास को प्रेरित कर रहे हैं।

फाउंडेशन द्वारा किए गए अन्य महत्वपूर्ण कार्य -

550 छात्रों को प्रदान की इंटर्नशिप

157 रोजगार के अवसर प्रदान किए गए

5,430 हर जगह पेड़ लगाए गए

7,920 कोविड आवश्यकताएं पूरी कीं

Posted By: Vinita Sinha

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close