रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय (पंरशुवि) रायपुर में अक्षय ऊर्जा प्रौद्योगिकी प्रबंधन अध्ययनशाला के विभागाध्यक्ष प्रो. संजय तिवारी को मध्य प्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय भोपाल का कुलपति नियुक्त किया गया है।

प्रो. संजय ने बताया कि उनका जन्म 1963 में जबलपुर में हुआ। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर से स्नातक से लेकर पीएचडी तक की पढ़ाई की। भोज मुक्त विश्वविद्यालय से सूचना प्रौद्योगिकी में एमएससी की डिग्री ली। इलेक्ट्रानिक्स और फोटोनिक्स के क्षेत्र में सक्रिय शिक्षक और शोधकर्ता के रूप में कैंब्रिज विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सैद्धांतिक भौतिकी के अंतरराष्ट्रीय केंद्र (इटली) समेत विश्व के अन्य विश्वविद्यालयों में आगंतुक विशेषज्ञ के रूप में सेवाएं दे चुके हैं।

कैलिफोर्निया स्थित आर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड और आर्गेनिक सोलर सेल के 15 प्रमुख वैज्ञानिकों में से एक हैं। उन्होंने 15 से अधिक शोधकर्ताओं का मार्गदर्शन किया है। 18 वर्षों में 200 से अधिक शोधपत्रों का प्रकाशन हुआ है। उन्होंने बताया कि तकनीकी शिक्षा से लगाव शुरू से रहा। विश्वविद्यालय में शिक्षा गुणवत्ता को और बेहतर करने के साथ ही शोध व नवाचार से विश्व स्तरीय पहचान बनाने के लिए कार्य करेंगे।

इन पुरस्कारों से हुए सम्मानित

प्रो. संजय ने बताया कि उन्हें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग नई दिल्ली का राष्ट्रीय यूजीसी अनुसंधान पुरस्कार मिल चुका है। कैंब्रिज विश्वविद्यालय, ब्रिटिश काउंसिल का यूकेईआरआइ अवार्ड, सार्क फेलोशिप व अन्य शोध के लिए वैज्ञानिक पुरस्कार प्राप्त हुआ है। काउंसिल फार इंटरनेशनल द्वारा प्रशासित यूएस फुलब्राइट फाउंडेशन एक्सचेंज आफ स्कालर्स (सीआइईएस) समेत अन्य राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के सम्मान उन्हें मिले हैं।

यह उपलब्धियां

प्रो. संजय द्वारा भारतीय विज्ञान अकादमी का अनुसंधान फैलोशिप व शोध के लिए कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के साथ समझौता किया गया। आप्टो-इलेक्ट्रानिक्स और लेजर प्रौद्योगिकी में नौकरी उन्मुख एमटेक कार्यक्रम शुरू किया गया। कुलपति देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर द्वारा विषय विशेषज्ञ के रूप में आमंत्रित इलेक्ट्रानिक्स में संकाय सदस्यों का चयन किया गया। राज्य में शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close