रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Education News: राज्य सरकार ने कुछ महीने पहले शिक्षा पर विशेष ध्यान देते हुए राज्य के कई सरकारी स्कूलों को उन्नयन कर अंग्रेजी स्कूल में तब्दील करने का निर्णय लिया। साथ ही स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूल की स्थापना की गई है, ताकि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों के बच्चों को भी अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा मिल सके। अभी कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने एक समारोह मे इसी अंग्रेजी स्कूल के तर्ज पर प्रदेश में हिंदी को पूर्ण बढ़ावा देने के उद्देश्य से जिलों में स्वामी आत्मानंद हिंदी स्कूल की स्थापना करने की बात कही है।

छत्तीसगढ़ी भाषा छात्र विकास समिति पंजीकृत इकाई के अध्यक्ष रितुराज साहू ने अंग्रेजी और हिंदी स्कूल के तर्ज पर हर जिले और ब्लॉक में स्वामी आत्मानंद छतीसगढ़ी स्कूल खोलने की मांग मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से की है, ताकि यहां के बच्चे लोगों को उनकी मातृभाषा में शिक्षा मिल सके। साथ ही यहां के रीति-रिवाज, परंपरा, संस्कृति का पठन-पाठन हो सके।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ी में उच्च स्तर पर पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में एमए छत्तीसगढ़ी की शिक्षा व्यवस्था 2013 से संचालित की जा रही, जिसमें छत्तीसगढ़ी में पठन-पाठन के साथ लेखन भी किया जा रहा है। इसी हिसाब से स्कूलों में भी छत्तीसगढ़ी माध्यम में शिक्षा व्यवस्था सरकार को कराने की मांग की है।

इससे यहां की पौने तीन करोड़ लोगों को मातृभाषा छत्तीसगढ़ी भाषा को उचित मान-सम्मान मिल सके। उल्लेखनीय है कि रविशंकर शुक्ल में हर साल 40 से अधिक सीटों में छत्तीसगढ़ी एमए में छात्र-छात्राएं प्रवेश ले रहे हैं।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local