रायपुर (राज्य ब्यूरो)। छत्तीसगढ़ के सरकारी कार्यालयों में अब केंद्रीय कार्यालयों की तरह सप्ताह में केवल पांच दिन ही कामकाज होगा। यानी अब सोमवार से शुक्रवार तक ही सरकारी कार्यालय खुलेंगे। इसके पीछे सरकार की मंशा कर्मचारियों की कार्यक्षमता और उत्पादकता बढ़ाना है। गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की इस घोषणा का कर्मचारी-अधिकारियों ने स्वागत किया है। यह व्यवस्था अप्रैल से लागू होने की उम्मीद है, लेकिन इसके लिए कार्यालयों के कामकाज के समय में भी बदलाव करना पड़ेगा।

कर्मचारी नेताओं के अनुसार अभी मंत्रालय में कामकाज का समय सुबह 10 से शाम पांच बजे व जिलों समेत अन्य कार्यालयों में सुबह साढ़े 10 से शाम साढ़े पांच बजे तक है। वहीं पांच दिन कामकाज वाले केंद्रीय कार्यालयों का समय सुबह नौ से शाम छह बजे तक है। बताया जा रहा है कि राज्य में भी यही समय लागू किया जा सकता है। हालांकि मंत्रालय सहित नवा रायपुर में स्थित सभी सरकारी कार्यालयों की दूरी अधिक है। ऐसे में थोड़ी समस्या आ सकती है।

छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के संयोजक कमल वर्मा, सचिव राजेश चटर्जी, महामंत्री आरके रिछारिया, कोषाध्यक्ष सतीश मिश्रा, संगठन मंत्री संजय सिंह, प्रवक्ता विजय झा व बीपी शर्मा ने मुख्यमंत्री के इस फैसले को कर्मचारी हित में लिया गया अभूतपूर्व निर्णय बताया है। उन्होंने कहा कि इससे कार्यक्षमता में वृद्धि होगी, साथ ही शासकीय कार्यों के साथ वे अपने पारिवारिक दायित्वों को और अधिक बेहतर ढंग से पूर्ण करने में सक्षम होंगे। पदाधिकारियों का कहना है कि मुख्यमंत्री के इस निर्णय से चार लाख शासकीय सेवक और उनके आश्रित परिवार के सदस्य विशेष रूप से महिला कर्मियों के स्वजन बेहद खुश हैं।

जनसंपर्क अधिकारी संघ के अध्यक्ष बालमुकुंद तंबोली ने कहा कि मुख्यमंत्री का यह फैसला जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों सहित सभी शासकीय सेवकों और उनके परिजनों के लिए राहत और खुशी देने वाला है। संघ के संरक्षक जेएल दरियो, उमेश मिश्रा, प्रधान संयोजक संजीव तिवारी, महासचिव आलोक देव, उपाध्यक्ष पवन गुप्ता, हीरा देवांगन सहित अन्य पदाधिकारियों ने कहा कि इस निर्णय से शासकीय सेवकों का मनोबल बढ़ेगा।

Posted By: Sanjay Srivastava

NaiDunia Local
NaiDunia Local