रायपुर। चंद्रयान 2 से भारत ने दुनिया के नक़्शे पर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। ये चांद में पानी और खनिज से संबंधित जानकारी,तस्वीरें इसरो को भेजेगा। इसरो के हज़ारों वैज्ञानिको ने भारत का सपना साकार कर दिया, इन्हीं में एक हैं रायपुर के आर. आदित्य।

आदित्य उस टीम के हिस्सा हैं जो चंद्रयान2 को अंतरिक्ष में पहुचने के बाद से नियंत्रित (कंट्रोल) करेगी। 'नईदुनिया' टीम इस लॉन्चिंग के समय आदित्य के पिता आर. मुरली के संपर्क में रही। बेटा इसरो में अपनी ड्यूटी निभा रहा था तो पिता यहां दफ्तर में थे, मां भी दफ्तर में थी।

इस लॉचिंग के समय बातचीत में उन्होंने कहा- बेटा ऐसा काम करे तो कौन पिता है, जिसे गर्व नहीं होगा। उन्होंने का कहा कि रविवार रात उससे बात हुई, बोला- 'पापा, कल बहुत बड़ा दिन है। आप सभी इसकी कामयाबी के लिए प्रार्थना भी कीजिये। हमारी तैयारी पूरी है, अब कोई तकनीकी कारण आड़े नहीं आएंगे। हम सब पूरे जोश में हैं, विश्वास में हैं। देश की नजर इसरो पर है, हम जरूर कामयाब होंगे।'

मंगलयान में भी अहम जिम्मेदारी- आर. मुरली ने कहा कि 2013 में मंगलयान और इसके बाद कई और यान को पहुँचने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं।


आदित्य के बारे में जानें

आर. आदित्य का जन्म रायपुर में ही हुआ। पिता आर. मुरली लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में इंजीनियर हैं और माँ रामलक्ष्मी एलआईसी में अफसर हैं। ये दक्षिण भारत से संबंध रखते हैं और तेलगू भाषी हैं। साल 2012 में आदित्य का आईआईटी जेईई के जरिए भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, त्रिवेन्द्रम में चयन हुआ। तब से वे वहीं सेवा दे रहे हैं।

पत्नी ने कराई मर्चेंट नेवी इंजीनियर पति की हत्या, तीन गिरफ्तार

नवविवाहिता से दुष्कर्म, फिर शादी का झांसा देकर कराया तलाक, प्रेग्नेंट होने पर छोड़ा

Korba Murder : हत्या के बाद निर्वस्त्र अवस्था में महिला की लाश दफनाई