Saina Movie Review: बैडमिंटन चैपिंयन साइना नेहवाल (Saina Nehwal) की बायोपिक का इंतजार आज (शुक्रवार) खत्म हुआ। यह फिल्म आज बड़े पर्दे पर रिलीज हो गई है। इस में साइना (Saina) का किरदार अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा (Parineeti Chopra) ने निभाया हैं। मूवी के टीजर और ट्रेलर को फैंस ने काफी पसंद किया। इस फिल्म को अमोल गुप्ते (Amole Gupte) ने डायरेक्ट किया है। साइना का टेलर अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन रिलीज हुआ था। इसके बाद ऑफिशियल गाना 'परिंदा' रिलीज किया गया। इस सॉन्ग में परिणीति के साथ एक्टर मानव कौल दिख रहे हैं। इसे मनोत मुंतशिर ने लिखा है और गाया अमाल मल्लिक ने है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अगर फिल्म साइना कोरोना महामारी से पहले रिलीज होती तो, पहले दिन 3 करोड़ का बिजनेस कर सकती थी। कोविड-19 के कारण इसकी कमाई पर असर पड़ सकता है।

फिल्म साइना रिव्यू:

स्टार कास्ट: परिणीति चोपड़ा, परेश रावल, मानव कौल, मेघना मलिक, अंकुर विकाल

डायरेक्टर: अमोल गुप्ते

रेटिंग: 3/5

फिल्म की कहानी

कहानी की शुरुआत साइना की मां उषा रानी नेहवाल (मेघना मलिक) के सपनों से होती हैं। जो खुद बैडमिंटन प्लेयर हैं और अपनी बेटी को बैडमिंटन खिलाड़ी बनाना चाहती हैं। साइना को वे बचपन से बैडमिंटन सिखाने लगती हैं। एक दिन साइना नेहवाल अपने से अधिक आयु वर्ग के बच्चों से आगे निकल जाती हैं। उसके नाम कई अवॉर्ड दर्ज हो जाते हैं। बड़े होते होते कई अंतरराष्ट्रीय खेल में साइना मैच जीत जाती हैं। फिल्म में कोच राजन का किरदार अभिनेता मानव कौल ने निभाया है। साइना चैंपियन बनती है, लेकिन स्टोरी में मोड़ तब आता है जब वह खेल को छोड़ विज्ञापन की तरफ ध्यान लगाने लगती हैं। इन सब में उनके ब्रॉयफ्रेंड कश्यप (ईशान नकवी) के साथ प्यार-भरे सीन भी हैं।

कहानी जब तक बचपन में चलती है तब तक अच्छी लगती है। युवा साइना (परिणीति चोपड़ा) की एंट्री के बाद फिल्म कहीं की रोचकता फीकी लगने लगती है। अक्सर किसी खिलाड़ी की बायोपिक में जब तक हार-जीत वाले सीन नहीं होते दर्शकों को देखने में मजा नहीं आता। डायरेक्टर फैंस में रोमांच पैदा करने में थोड़ा फेल हो गए। फिल्म में एक्टिंग की बात करें तो साइना के बचपन को किरदार निभाने वाली कलाकार नायशा कौर ने अच्छा काम किया है। परिणीति ने फिल्म के लिए काफी मेहनत की है जो उनके अभिनय में साफ झलकती है। बाकी एक्टर्स ने भी अपनी गहरी छाप छोड़ी है। कुल मिलाकर फिल्म साइना एक बार देखी जा सकती है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close