Bhopal Railway News :भोपाल। रेल परिचालन को अधिक प्रभावी बनाने के लिए देशभर के 67 रेल मंडलों के ट्रेन कंट्रोलर 21 व 22 मई को भोपाल में जुटेंगे। ये दो दिन तक रेल परिचालन से जुड़ी वर्तमान परिस्थितियों व चुनौतियों पर बातचीत करेंगे। प्रत्येक रेल मंडलों में ट्रेन कंट्रोलरों द्वारा किए जा रहे अच्छें कामों की प्रस्तुतियां दी जाएगी, चुनौतियों को भी पटल पर रखकर समझा जाएगा और उनका निराकरण करने के प्रयास करेंगे। इसके लिए आल इंडिया ट्रेन कंट्रोलर एसोसिएशन ने राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया है, जो होशंगाबाद रोड स्थित एक निजी होटल में होगा। गुरुवार को यह जानकारी एसोसिएशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अजय सिंह व भोपाल मंडल अध्यक्ष संजय कटारे, मंडल सचिव सजल गुप्ता ने पत्रकार वार्ता में दी है। इस मौके पर संरक्षक नृपेंद्र सिंह, शैलेंद्र कुमार, जगदीश दुधानी आदि मौजूद थे। बता दें कि ट्रेनों को दुर्घटना रहित चलाने में ट्रेन कंट्रोलरों की बड़ी भूमिका होती है। यह रेलवे का ऐसा हिस्सा है, जो एक मिनट बंद हो जाए तो ट्रेनों को आगे चला पाना मुश्किल हो जाता है।

अधिवेशन में इन मांगों पर होगी चर्चा

- ट्रेन कंट्रोलर के पद खाली है। जिसकी वजह से काम करने में असुविधा हो रही है। देशभर के सभी मंडलों में यही हालत है। मुश्किल से 2600 ट्रेन कंट्रोलर पूरी ट्रेनों को सुरक्षित रूप से चला रहे हैं। ये खाली पद भरने की मांग कर रहे हैं।

- ट्रेन कंट्रोलरों का तीसरे वेतनमान तक ग्रेड-पे अच्छा था, उसके बाद से ग्रेड-पे में सुधार नहीं किया गया। नौबत यह आ गई कि रेलवे के उपविभागों के लिए स्वीकृत कैडर से भी ग्रेड पे कम हो गया है। ये शुरुआती ग्रेड-पे 4800 रुपये करने की मांग कर रहे हैं जो अभी 4200 रुपये है।

- इन्हें सप्ताहिक अवकाश की पात्रता नहीं होती है, जिसे देने की मांग की जा रही है। बाकी सभी विभागों में यह पात्रता है।

- खाली पदों को न भरकर दूसरे विभागों के स्वास्थ्य की दृष्टि से अक्षम कर्मचारियों से ट्रेन कंट्रोलर का काम लिया जा रहा है, जिसे बंद करने की मांग की जा रही है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close