भोपाल । Bhopal Weather : निसर्ग तूफान के चलते होने वाली बारिश की चेतावनी मौसम विभाग ने चार दिन पहले ही जारी कर दी थी। इसके बावजूद प्रशासन समय रहते नहीं चेता। बुधवार देर रात से गुरुवार दोपहर तक हुई बारिश में 20 हजार मीट्रिक टन गेहूं भीग गया। 29 हजार मीट्रिक टन गेहूं अब भी बाहर पड़ा हुआ है। समय से परिवहन न होने के कारण यह स्थिति बनी। गेहूं को ढंकने के लिए 35 खरीदी केंद्रों में तिरपाल की व्यवस्था नहीं की गई थी। समय पर परिवहन न करने के लिए नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों को ट्रांसपोर्टरों पर पैनाल्टी लगाने के लिए कहा गया था। लेकिन अब तक कोई पैनाल्टी नहीं लग पाई और इन खरीदी केंद्रों में रखा गेहूं भीग गया।

खरीदी केंद्रों में गेहूं न भीगे इसके लिए बुधवार को कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के महाप्रबंधक और सहकारी संस्थाओं के उपायुक्त को आदेश जारी किया था। इसमें कहा गया था कि जहां गेहूं रखा है उसके आसपास पानी की निकासी के लिए नाली बनवाई जाएं। किसानों को नुकसान नहीं होना चाहिए।

इधर, सबसे ज्यादा गेहूं बैरसिया में भीगा है। यहां 10 खरीदी केंद्रों में अब भी 2141 ट्रॉलियों में भरा गेहूं किसान लेकर खड़े हैं। इस स्थिति को देखते हुए कलेक्टर ने सभी किसानों को टोकन बंटवा दिए है। वहीं, अधिकारियों की जिम्मेदारी तय कर दी गई है। बता दें कि अब तक भोपाल के 64 खरीदी केंद्रों में करीब 29 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी हो चुकी है।

दो दिन पहले बंद हो गई खरीदी, फिर भी बाहर पड़ा रहा सैकड़ों क्विंटल गेहूं, भीगा

भौंरी बाइपास रोड 11 मील के पास स्थित करतार गेहूं तुलाई केंद्र के बाहर रखा सैकड़ों क्विंटल गेहूं बारिश में भीग गया। वहीं, बैरागढ़ के पास भैंसाखेड़ी कृषि उपज मंडी में भी गेहूं भीग गया। समय रहते मंडी समिति ने कोई व्यवस्था की नहीं की और न ही बचाव के कोई प्रबंध किए। करतार गेहूं तुलाई केंद्र में 4 दिन पहले अनाज की खरीदी बंद कर दी गई थी। यहां दो लोग कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद इसे बंद कर दिया गया था। यहां वेयर हाउस बना है।

भैंसाखेड़ी मंडी में भी सैकड़ों बोरे भीगे

ग्राम भैंसाखेड़ी स्थित कृषि उपज मंडी में इस बार सहकारी समितियों ने हजारों क्विंटल गेहूं की खरीदी की है। गेहूं के भंडारण की उचित व्यवस्था नहीं की गई है। मंडी में लगे शेड भरने के बाद गेहूं को खुले में रख दिया गया था। मंडी निरीक्षक राजा बाथम का कहना है कि खरीदी सहकारी समितियां कर रही हैं इसलिए बारिश से बचाव की जिम्मेदारी भी उनकी है। वहीं भौंरी सहकारी समिति के मनोहर नागर का कहना है कि हमने अपनी तरफ से पूरी व्यवस्था की थी। अचानक बारिश होने से गेहूं भीग गया है।

भर गया पानी, हो गया कीचड़

सेवा सहकारी समिति ललौली रामपुरा बालाचौर सिद्घि विनायक वेयर हाउस में पानी भर गया है। यहां बहुत ज्यादा कीचड़ हो गया है। यहां पर 140 ट्रॉली खड़ी हैं। बारिश रुकने के बाद कीचड़ एवं पानी सूखने पर यहां तुलाई हो सकेगी। वहीं, परवलिया सड़क गेहूं उपार्जन केंद्र में तिरपाल ढंकने के बाद भी नीचे से गेहूं भीग गया है।

एक क्विंटल गेहूं के रखरखाव के लिए मिलते हैं 27 रुपए

जानकारी के अनुसार एक क्विंटल गेहूं के रखरखाव के लिए सहकारी संस्थाओं को सरकार से 27 रुपए मिलते हैं। इसमें से मजदूरों को 9 रुपए और हम्मलों को 7 रुपए के हिसाब से भुगतान किया जाता है। वहीं, खरीदी केंद्र में तिरपाल सहित अन्य रखरखाव की व्यवस्था करने की जिम्मेदार सहकारिता विभाग के अधिकारियों की होती है।

इनकी गलतियों के कारण भीगा गेहूं :-

- उपार्जन केंद्र समितिः समिति प्रभारियों ने बारिश के हाई अलर्ट के बाद भी गेहूं की बोरियों को भीगने से बचाने के लिए तिरपाल नहीं ढांका।

- सहकारिता विभागः विभागीय अधिकारियों ने सोसायटी संचालकों को गेहूं को भीगने से बचाने तिरपाल तथा खरीदी के लिए वॉटरप्रूव टेंट की व्यवस्था नहीं की।

- नागरिक आपूर्ति निगमः 10 दिन पहले नान के जीएम को ट्रांसपोर्टर को नोटिस देने के निर्देश हुए थे और परिवहन तेज गति से कराने को कहा था, लेकिन दोनों ही काम नहीं हुए।

- खाद्य विभागः विभागीय अधिकारियों के पास गेहूं खरीदी की मॉनीटरिंग का काम था, वह भी ठीक ढंग से नहीं किया।

ये हैं जिम्मेदारों का तर्क

- भोपाल में 5 हजार मीट्रिक टन गेहूं ही सभी उपार्जन केंद्रों पर खुले में रखा था, जिन्हें तिरपाल से ढंककर रखा गया था। भोपाल में अभी तक किसी भी केंद्र पर गेहूं भीगने की सूचना प्राप्त नहीं हुई है। - ज्योति शाह नरवरिया, जिला खाद्य आपूर्ति नियंत्रक, भोपाल

- भोपाल में खरीदी केंद्रों पर गेहूं भीगने के मामले में मैं अकेला जिम्मेदार नहीं हूं। इसमें खरीदी में शामिल सभी लोग जिम्मेदार हैं। - विनोद सिंह, उपायुक्त सहकारिता

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags