भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। झीलों की नगरी भोपाल में स्थित नूर-उस-सबाह पैलेस अब जल्द ही सुपर लग्जरी होटल में तब्दील होने वाला है। विश्वप्रसिद्ध अमेरिकी कंपनी हयात नूर-उस-सबाह का कायाकल्प करेगी और 20 वर्षों तक इसका मैनेजमेंट भी देखेगी। बता दें कि भारत में पहली बार हयात होटल्स की एंट्री हो रही है। इसके एंट्री के लिए सबसे पहले भोपाल के नूर-उस-सबाह पैलेस को चुना है। इसी के साथ नूर-उस-सबाह भारत का पहला और एशिया का दूसरा ऐसा होटल होगा, जिसे हयात ग्रुप में शामिल किया गया है।

अमेरिकी कंपनी हयात की अनबाउंड कलेक्शन विंग इस पैलेस का ओरिजिनल लुक बदले बिना इसे अंतरराष्‍ट्रीय मानकों के मुताबिक नई शक्ल देगी। हयात की एंट्री के साथ नवाबी पैलेस नूर-उस-सबाह की गिनती दुनिया के चुनिंदा लग्जरी होटल में हो जाएगी। इनमें होटल डू लौवर, पेरिस फ्रांस, रैंचो पेस्केडरो, टोडोस सैंटोस, मैक्सिको, परिसि उद्वार होटल, बुडापेस्ट, कार्मेल वैली रैंच, यूनाइटेड स्टेट और पनामा सिटी, साउथ अमेरिका शामिल हैं। इतना ही नहीं, पूरे एशिया में ही हयात का अनबाउंड कलेक्शन अभी सिर्फ चीन में है और अब इसकी एंट्री भारत में होने जा रही है।

बताया जा रहा है कि हयात की टीम ने राजस्थान समेत देशभर के कई हेरिटेज सिटी में प्रॉपर्टी देखी लेकिन आखिर में उन्हें भोपाल का नूर-उस-सबाह ही पसंद आया। नूर-उस-सबाह के सीइओ पंकज यादव के मुताबिक इसके ओरिजिनल फील को बिलकुल चेंज नहीं किया जाएगा, पर बदलाव बहुत होंगे। पैलेस के लुक, फील, लाइटिंग, गार्डन, कलर कॉम्बिनेशन, इंटीरियर से लेकर फ्लोरिंग हर एक चीज का स्टैंडर्ड अब हयात के अकार्डिंग होगा। यह पैलेस जनवरी 2025 तक पूरी तरह न्यू लुक के साथ शुरू हो जाएगा।

यह है खासियत

नूर-उस-सबाह का हिंदी अर्थ है सुबह की रोशनी। यह पैलेस सात एकड़ में फैला हुआ है और इसका इतिहास 100 साल से भी ज्यादा पुराना है। सन 1920 में बेगम सुल्तान जहां ने इस पैलेस का निर्माण कराया था। उनके बेटे हमीदुल्लाह खां भोपाल के आखिरी नवाब हुए। 15 अप्रैल 1998 को पैलेस पब्लिक के बेहतर एक्सपीरियंस के लिए होटल के तौर पर शुरू किया गया। 2018 तक पैलेस वेलकम ग्रुप ने मैनेज किया। 2022 से 20 साल के लिए हयात ग्रुप इसे मैनेज करेगा।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close