भोपाल, दतिया, दतिया जिले की भांडेर विधानसभा से कांग्रेस के प्रत्याशी फूल सिंह बरैया ने कथित वीडियो को फेक यानि झूठा बताया है।

यहां नईदुनिया से बातचीत में उन्‍होंने आरोप लगाया कि भाजपा ऐसे सारे कुत्सित प्रयास कर रही है, जिससे हमारा ध्यान भटक जाए । वे उन्नाव भांडेर के गांव बालाजी क्षेत्र में कार्यालय का उद्घाटन करने आए थे।

जानकारी के अनुसार सोशल मीडिया पर वायरल फूलसिंह बरैया का जो वीडियो है वह भितरवार विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली चीनौर तहसील के ग्राम भागीरथपुरा का है जहां 14 अप्रैल 2016 को क्षेत्रीय विधायक लाखन सिंह यादव की मौजूदगी में संविधान रचेता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया गया था।

फूल सिंह बरैया का एक विडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। जिसमें वह विवादित बयान देते नजर आ रहे हैं। सभा को संबोधित करते हुए फूल सिंह बरैया कहते नजर आ रहे हैं कि अभी भी वक्त है कि अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों को जाग जाना चाहिए वरना सवर्ण देश को हिंदू राष्ट्र बना देंगे। सामाजिक कार्यकर्ता अजय दुबे ने इस मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की है। सोशल मीडिया पर वायरस एक अन्य में वे सवर्ण महिलाओं को लेकर विवादास्पद बयान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मुसलमानों से भारत छोड़ने की बात करने वाले सवर्णों को पहले खुद देश छोड़ना चाहिए क्योंकि वह मुसलमानों के बाद भारत आए हैं। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि हम अनुसूचित जाति के लोग और मुसलमान एक ही पिता की संतान हैं चाहे तो डीएनए टेस्ट करा लिया जाए, उन्होंने ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल के एक भाषण का उदाहरण देते हुए बताया कि एक बार जब हिंदुओं ने अंग्रेजों से भारत छोड़ने की मांग की तो चर्चिल ने कहा कि अगर भारत के मूल निवासी इस बात मांग करेंगे तो विचार किया जाएगा।

सवर्ण तो खुद बाद में भारत आए हैं। उन्होंने लोगों से एकजुट होने की अपील करते हुए कहा यदि हम एक हो गए तो वे 15 है हम 85। वे मुकाबला नहीं कर पाएंगे। एक दूसरे वीडियो में उनका सवर्ण महिलाओं को लेकर दिया गया आपत्तिजनक भाषण वायरल हो रहा है।

अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट पर वोटरों को संबोधित करते हुए फूल सिंह बरैया ने कहा कि सवर्ण वर्ग के लोगों का कुत्ता अगर अनुसूचित जाति के लोग छू लेता हैं तो वे उस कुत्ते को अनुसूचित जाति के घर बांध आते हैं। इसलिए अनुसूचित जाति के लोगों को भी सवर्णों के घर जाकर उनकी महिलाओं को लड्डू खिलाने चाहिए, जिससे वह भी अस्पृश्य हो जाएं और फिर सवर्ण वर्ग के लोग उन्हें अनुसूचित जाति के घर के लोगों के घर छोड़ आएं। इस तरह अनुसूचित जाति के लोगों के दो-दो पत्नियां हो जाएंगी इनका विडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags