Digvijay Singh Exclusive Interview: धनंजय प्रताप सिंह, भोपाल। मैं कांग्रेस अध्यक्ष बनने की दौड़ में नहीं हूं। मैं एक बार फिर दोहरा रहा हूं कि कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है। हम सभी लोग चाहते थे कि राहुल गांधी कांग्रेस की कमान संभालें लेकिन वे इसके लिए तैयार नहीं हैं। यह बात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ने की संभावनाओं को खारिज करते हुए नईदुनिया से कही। हां, उन्होंने यह जरूर कहा कि जो भी कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाएगा, वह 'एक व्यक्ति एक पद" की नीति का पालन करेगा। इस दौरान दिग्विजय सिंह ने कई प्रश्नों के बेबाकी से जवाब दिए। प्रस्तुत है उनसे बातचीत के प्रमुख अंश...

प्रश्न - क्या भाजपा को देखकर कांग्रेस इस बार लोकतांत्रिक तरीके से राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव करवा रही है?

जवाब - कांग्रेस में अध्यक्ष का चुनाव पहली बार लोकतांत्रिक तरीके नहीं हो रहा है। पहले भी कई बार ऐसे अवसर आए हैं, जब कांग्रेस अध्यक्ष को चुनाव के माध्यम से चुना गया है। ऐसा आरोप सिर्फ भाजपा लगाती है जबकि हकीकत यह है कि भाजपा में ही लोकतंत्र नहीं है। उसके जितने अध्यक्ष बने हैं, कोई एक का नाम बता दो, जिसका निर्वाचन लोकतांत्रिक तरीके से हुआ हो। अब भाजपा के लोकतंत्र में लागू लोकतंत्र की स्थिति यह है कि अध्यक्ष कोई होता है और फैसले कोई और लेते हैं।

प्रश्न - क्या परिवारवाद के आरोप से बचने के लिए कांग्रेस इस बार गैर गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बना रही है?

जवाब - कहां नहीं है परिवारवाद? किस पार्टी में परिवारवाद नहीं है? क्या भाजपा में नहीं है? परिवारवाद का आरोप सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस को बदनाम करने का हथकंडा है। मैं भाजपा के ऐसे 50 सासदों के नाम गिना सकता हूं, जो पिता-पुत्र, भाई-भाई, चाचा-भतीजे या आपस में रिश्तेदार हैं। गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष भी कांग्रेस में निर्वाचित हुए हैं लेकिन कांग्रेस में सभी को परिवारवाद दिखता है, भाजपा का परिवारवाद किसी को नहीं दिखता।

प्रश्न - क्या अशोक गहलोत अध्यक्ष बनते हैं तो उन्हें मुख्यमंत्री पद छोड़ना होगा?

जवाब - उदयपुर चिंतन शिविर में पारित प्रस्ताव में कहा गया है कि कांग्रेस में एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत लागू होगा। मध्य प्रदेश में कमल नाथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष दोनों पदों पर थे तो उन्होंने भी नेता प्रतिपक्ष का पद छोड़ा था, जो भी राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाएगा, उसे एक पद ही चुनना होगा।

प्रश्न - कांग्रेस के नाराज नेताओं के गुट जी-23 के दबाव के कारण कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव करा रही है?

जवाब - अब कहां हैं जी-23? आएं और कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ें। उन्हें किसने रोका है।

प्रश्न - देशभर में राहुल गांधी की छवि पप्पू की तरह बना दी गई है। क्या कांग्रेस नेताओं को बुरा नहीं लगता है?

जवाब - भाजपा के खिलाफ जो भी अटैक (हमला) करता है, भाजपा के लोग उसे बदनाम कर उसका ग्राफ गिरा देते हैं, चाहे वह राहुल गांधी हों या दिग्विजय सिंह, बाद में उसमें कांग्रेसी भी शामिल हो जाते हैं।

प्रश्न - आपको मुस्लिम तुष्टिकरण सहित विवादास्पद बयानों के कारण देशभर में आलोचना झेलनी पड़ती है, आपने इस बारे में कभी सोचा नहीं?

जवाब - मैंने कभी गलतबयानी नहीं की। कभी किसी बयान के लिए माफी नहीं मांगी। जहां तक ओसामा जी और हाफिज सईद वाले बयान हैं तो उन्हें भी गलत तरीके से प्रचारित किया गया। मेरा सही बयान किसी ने सुना तक नहीं। मेरा पूरा बयान सुनें, मैंने उन्हें सम्मान नहीं दिया था। जबकि, मुरली मनोहर जोशी सहित कई नेता इस तरह की बात कह चुके हैं। मेरे पास इसका प्रमाण हैं।

प्रश्न - राहुल गांधी को भारत जोड़ो यात्रा निकालने की जरूरत क्यों पड़ी?

जवाब - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डा.मोहन भागवत मस्जिद-मदरसे जाने लगे हैं। यह भारत जोड़ो यात्रा का ही प्रभाव है। इससे ही उन्हें प्रेरणा मिली और इसके लिए हम उनका आभार जताते हैं। अब यह बात नीचे संघ के लोगों तक जाना चाहिए कि वे इस देश में हिंदू, मुसलमान, ईसाइयों या अन्य धर्म के लोगों में फर्क पैदा न करें।

प्रश्न - मध्य प्रदेश में कांग्रेस 2023 के चुनाव में कैसा प्रदर्शन करेगी?

जवाब - मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार ही बनेगी। मैं शर्त लगाने के लिए तैयार हूं। 2023 में सौ प्रतिशत मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनाएगी।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close