भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शाहपुरा क्षेत्र से 12वीं कक्षा की एक छात्रा ने चाइल्डलाइन में फोन कर कहा कि उसे लग रहा है कि वह बोर्ड परीक्षा नहीं दे पाएगी। क्योंकि उसे टीका तो लग चुका है, लेकिन टीकाकरण का प्रमाणपत्र डाउनलोड नहीं हो रहा है। छात्रा ने कहा कि परीक्षा में बैठने के लिए टीकाकरण का प्रमाणपत्र दिखाना अनिवार्य है। ऐसे में उसे चिंता हो रही है कि उसे परीक्षा हाल में घुसने ही नहीं दिया तो क्या होगा। विद्यार्थियों की कुछ इसी तरह की शिकायतें चाइल्ड लाइन के हेल्पलाइन नंबर 1098 पर इन दिनों आ रही हैं।

बता दें कि 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों के लिए बीते तीन जनवरी से टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया गया है। इसे लेकर बच्चों के मन में कई तरह के सवाल भी उठ रहे हैं। कई ऐसे बच्चों के भी फोन आ रहे हैं जो किसी भी स्कूल में पढ़ाई नहीं कर रहे हैं। वे पूछ रहे हैं कि उन्हें टीका कैसे लगेगा? चाइल्ड लाइन नंबर पर मदद मांगने वाले बच्चों के काल लगातार बढ़ रहे हैं।

दरअसल, बच्चे टीका लगवाने और उसके बाद प्रमाणपत्र डाउनलोड करने को लेकर परेशान हो रहे हैं। इस कारण चाइल्ड लाइन में हर दिन चार से पांच काल टीकाकरण को लेकर आ रहे हैं। चाइल्ड लाइन का कहना है कि बच्चों के मन में टीकाकरण को लेकर असमंजस की स्थिति है। इसके अलावा दसवीं व बारहवीं के विद्यार्थी इस बात को लेकर भी परेशान हैं कि समय से टीका नहीं लगा तो वे बोर्ड परीक्षा में बैठ पाएंगे या नहीं। कई बच्चों ने शिकायत की है कि टीकाकरण का प्रमाणपत्र डाउनलोड नहीं हो रहा है। ऐसे में बोर्ड परीक्षा कैसे देंगे।

टीका नहीं लग पा रहा है तो क्या करें

टैगोर नगर से एक छात्रा ने चाइल्ड लाइन पर फोन कर पूछा कि टीका कहां-कहां लगवा सकते हैं। उसने बताया कि वह सेंटर पर टीका लगवाने गई थी, लेकिन उसका नंबर आने तक टीका खत्म हो गया। एक-दो बार ओर कोशिश की, लेकिन भीड़ रहती है। छात्रा ने कहा कि वह चाहती है कि तीसरी लहर में केस बढ़ने के पहले उसे कोरोनारोधी टीका लग जाए। वहीं, पंचशील नगर से एक 16 वर्षीय बालिका ने फोन कर कहा कि उसने नौवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी है। ऐसे में वह अब किसी भी स्कूल में नहीं जाती है तो क्या उसे टीका नहीं लगेगा। चाइल्ड लाइन में काउंसलर बच्चों को उचित सलाह दे रहे हैं। उनका कहना है कि शासन ने सभी को टीका लगवाने की जिम्मेदारी ली है। ऐसे में शाला त्यागी बच्चों को भी टीका लगवाया जाएगा।

टीका लगवाना सही है या नहीं

चाइल्ड लाइन में कई बच्चे यह भी पूछ रहे हैं कि उन्हें टीका लगवाना चाहिए या नहीं। काउंसलर बच्चों को आश्वास्त कर रहे हैं कि टीका जरूर लगवाएं। कोरोना से सुरक्षा के लिए टीका लगवाना जरूरी है। इस कारण बिना घबराए टीका जरूर लगवाएं।

चाइल्ड लाइन में तीन जनवरी के बाद से ही बच्चों के टीकाकरण से जुड़ी समस्याओं को लेकर काफी फोन आ रहे हैं। इसमें बच्चे टीका लगवाना चाहिए या नहीं और प्रमाणपत्र डाउनलोड न होने जैसी शिकायतें कर रहे हैं। चाइल्डलाइन की तरफ से बच्चों को हर संभव मदद देने का प्रयास किया जा रहा है।

- अर्चना सहाय, डायरेक्टर, चाइल्ड लाइन

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local