मनोज तिवारी, भोपाल। मध्य प्रदेश में राम वन गमन पथ (कारिडोर) का काम जल्द शुरू होने जा रहा है। इसके लिए धनराशि का भी प्रबंध हो गया है। पहले चरण में इस पर मूलभूत सुविधाएं विकसित की जाएंगी। इसके लिए 300 करोड़ रुपये के प्रस्ताव को अनुमति मिली है। इसमें 60 प्रतिशत राशि केंद्र और 40 प्रतिशत राशि राज्य सरकार देगी। काम की समय सीमा तय की जा रही है। तय सीमा में काम पूरा करने के लिए बोर्ड भी गठित किया जा रहा है। इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, लोक निर्माण विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी शामिल रहेंगे ताकि कोई भी निर्णय लेने में विलंब न हो। इसके अलावा सरकार राम वन गमन पथ न्यास का भी गठन कर रही है।

परियोजना के पहले चरण में सड़क एवं फुटपाथ निर्माण, श्रद्धालुओं के रात्रि विश्राम के लिए स्थान, भोजन और साधना के लिए उपयुक्त वातावरण तैयार किया जाएगा। पथ पर पर्यटन बढ़ाने के भी प्रयास होंगे। कमल नाथ सरकार ने वर्ष 2019 में कार्ययोजना तैयार कर 22 करोड़ रुपये का बजट दिया था। पथ का निर्माण प्रदेश के अध्यात्म विभाग को करना था लेकिन अधिकारियों की अरुचि की वजह से इस कार्य को संस्कृति विभाग को सौंप दिया गया था। अध्यात्म विभाग में तकनीक के जानकार लोग नहीं होने का तर्क दिया गया।

रामपथ गमन में ये शहर-कस्बे

रामपथ गमन में चित्रकूट, पन्ना, बधवारा (कटनी), रामघाट (जबलपुर), राम मंदिर तालाब, रामनगर मंडला, शहडोल, डिंडौरी और अमरकंटक शामिल रहेंगे।

पुरानी शहरी व्यवस्था, बड़े भवन भी दिखेंगे

राम वन गमन पथ में पुरानी शहरी व्यवस्था का नमूना देखने को मिलेगा। बड़े भवनों का आर्किटेक्चर भी दिखाई देगा। यात्री निवास, बांस की झोपड़ियां, लाइट एंड साउंड-शो का भी प्रबंध किया जाएगा।

भीड़ प्रबंधन पर काम होगा

- सरकार का फोकस चित्रकूट में यातायात के दबाव को कम करना है।

- श्रद्धालुओं के लिए पैदल ट्रैक तैयार होगा।

- इसमें गाड़ियों का प्रवेश वर्जित रहेगा।

- यह ट्रैक रामघाट, कामदगिरी, हनुमान धारा, भरत मिलाप मंदिर को जोड़ेगा।

- श्रद्धालु साइकिल से जा सकें, इसके लिए अलग से ट्रैक बनेगा।

- सरकार हेरीटेज स्ट्रीट कारिडोर बनाएगी।

- चित्रकूट सहित राम वन गमन पथ पर पड़ने वाले सभी शहरों कस्बों का भी विकास करेगी।

- इनमें पब्लिक प्लाजा निर्माण और 30 मीटर चौड़ी सड़कें बनाना शामिल रहेगा।

इन मंदिरों और धार्मिक महत्व के स्थलों के दर्शन

पथ में पन्ना के प्राणनाथ मंदिर, राम जानकी मंदिर, जुगल किशोर मंदिर, बल्देव जी मंदिर, गोविंद जी मंदिर के दर्शन होंगे। अमरकंटक में नर्मदा उद्गम, श्रीयंत्र मंदिर, पटलेश्वर महादेव, कपिलधारा, बधवारा में बांधवगढ़ नेशनल पार्क, शेष शैया, बांधवगढ़ फोर्ट, बानसागर झील, रामघाट जबलपुर में चौसठ योगिनी मंदिर, भेड़ाघाट, योगिनी मंदिर, डिंडौरी में चाड़ा, मेटल क्राफ्ट, बैंबू आर्ट, डगोना वाटर फाल भी देखने मिलेंगे।

राम वन गमन पथ को धरातल पर उतारना हमारा लक्ष्य है। इसका काम जल्द शुरू कर रहे हैं। - उषा ठाकुर, संस्कृति मंत्री

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close