भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी भोपाल समेत मप्र से सैंकड़ों लोग अपने दिवंगत स्‍वजनों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण करने गया जाना चाहते हैं, लेकिन भोपाल, हबीबगंज से एक भी सीधी ट्रेन नहीं है। संत हिरदाराम नगर स्टेशन से जरूर एकमात्र साप्ताहिक ट्रेन इंदौर-हावड़ा स्पेशल एक्सप्रेस है, लेकिन वह भी फुल है। सेकंड सिटिंग और स्लीपर कोच में वेटिंग के भी टिकट नहीं मिल रहे हैं। बाकी की श्रेणियों में वेटिंग है। इटारसी जंक्शन से भी एकमात्र सीधी ट्रेन है। उसमें भी वेटिंग है। कन्फर्म टिकट नहीं मिल रहे हैं।

कोरोना संक्रमण समेत पूर्व में अपनों को खोने वाले नागरिक अधिक परेशान हैं, क्योंकि कोरोना के कारण नागरिक अपनों की अंतिम यात्रा में शामिल तक नहीं हो सके थे। नगर निगम व अन्य कर्मचारियों ने अंतिम संस्कार किए थे। इन दिवंगतों के परिजन अब ठीक से अपने पूर्वजों का याद करना चाहते हैं, इसलिए तर्पण करने के लिए गया जाना चाहते हैं। लेकिन हर साल यह नौबत बनती है। हर साल नागरिक रेलवे से पितृपक्ष की अवधि में भोपाल स्टेशन से होकर ट्रेन चलाने की मांग करते आ रहे हैं, फिर भी कोई सुनवाई नहीं है।

अप-डाउनर एसोसिएशन के सदस्य अरुण अवस्थी का कहना है कि पितृ पक्ष में हर साल श्रद्धालु गया जाते हैं, वहां तर्पण करते हैं। यह बात रेलवे को पहले से पता है। तब भी अतिरिक्त ट्रेनें नहीं चलाई जा रही हैं। भोपाल रेल मंडल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्य निरंजन वाधवानी का कहना है कि जरूरी नहीं है कि भोपाल मंडल अतिरिक्त ट्रेन चलाए। ऐसे समय में रेलवे को बड़े स्तर पर योजना बनानी चाहिए और ऐसी ट्रेनें संचालित करनी चाहिए, जो एक से अधिक जोन और मंडलों से होकर गया जाती हों। यह योजना पहले से बनानी थी, जो कि नहीं बनाई गई।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local