पांढुर्णा, (नवदुनिया न्यूज)। राष्ट्रीय आपदा को देखते हुए भारत सरकार द्वारा सभी ट्रेनों के परिवहन पर रोक लगा दी गई थी। जिसके बाद अधिकतर ट्रेनों का आवागमन शुरू किया गया, परंतु दो से ढाई वर्ष बीत जाने के उपरांत भी नागपुर, भुसावल व्हाया इटारसी दादा धाम एक्सप्रेस क्रमांक अप 22112 एवं डाउन 22111 आज तक शुरू नहीं होने से श्रद्धालु नाराज हैं। नगर की प्रसिद्ध विशाल जाम सांवली पदयात्रा समिति द्वारा नगर के दादाजी भक्तों के साथ दादाधाम एक्सप्रेस पुनः शुरू कराने को लेकर केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव एवं मुख्य रेल प्रबंधन मध्य रेलवे, नागपुर के नाम पांढुर्णा एसडीएम आरआर पांडे को तहसील कार्यालय पांढुर्णा एवं स्थानीय रेल्वे स्टेशन प्रबंधन को आवेदन सौंपकर पुनः दादाधाम एक्सप्रेस गुरू पूर्णिमा पर्व के पूर्व शुरू कराने की मांग की गई।खंडवा जिले में श्री श्री 1008दादाजी धूनीवाले का राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त आश्रम (दादा-दरबार) स्थित है एवं खंडवा के समीप ही स्थित सिंगाजी महाराज का पवित्र स्थान और बुरहानपुर नगर में बोहरा समुदाय का प्रसिद्ध धगुरुद्वाराध भी स्थित होने की वजह से मध्यप्रदेश एव महाराष्ट्र के लाखों हिंदू एवं बोहरा समुदाय के अनुयायी अपने इस आस्था के धार्मिक केंद्र पर रोजमर्रा का आवागमन भारी संख्या में होता रहता है, साथ ही प्रमुख हिंदू त्यौहारों पर तो खंडवा दरबार में लाखों की संख्या में हिंदू समुदाय के लोगों का मेला लगा रहता है।

दक्षिण भारत से उत्तर भारत की और जाने वाली सभी बड़ी एव फास्ट ट्रेनें इटारसी होने हुए दिल्ली और उत्तर भारत की ओर अपना सफर तय करती हैं। खंडवा एव बुरहानपुर इटारसी से मुंबई-भुसावल मार्ग पर स्थित होने की वजह से महाराष्ट्र एव मध्यप्रदेश के नागपुर-कलमेश्वर-काटोल-नरखेड़-सावनेर-पांढुर्णा-सौंसर-मुलताई-बैतूल आदि नगरों के लोगों को इटारसी तक इन ट्रेनों में और इटारसी के बाद उत्तर भारत से मुंबई जाने वाली ट्रेनों में सफर करके खंडवा एव बुरहानपुर तक पहुंचना पड़ता है।

खंडवा धाम जाने हेतु दो अलग-अलग ट्रेनों का सहारा लेकर खंडवा धाम पहुंचना पड़ता है। जिसके चलते धन और समय अधिक लगता है। लोगों को सफर की समझ नहीं हो पाती जिसके चलते अधिकतर भक्त अपनी आराध्य की आस्था के स्थलों तक पहुंचने में असफल हो जाते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close