दतिया। यह गंगा-जमुना संस्कृति नहीं तो और क्या है, हिंदूस्तान में मध्यप्रदेश ऐसा प्रदेश है, जहां एक ही पंडाल में निकाह भी पड़ा जा रहा है और विवाह भी। यह बात स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कही। वह मंगलवार को कृषि उपज मंडी प्रांगण में अक्षय तृतीया के अवसर पर आयोजित मुख्यमंत्री कन्यादान सामूहिक विवाह एवं निकाह योजना के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी प्रजापति रही।

कार्यक्रम की झलकियां

कार्यक्रम में मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने वधुओं को आश्वासन दिया कि हर परेशानी में वह उनके साथ हैं। उन्होंने कहा कि वह मेरा मोबाइल नंबर हमेशा अपने साथ रखे, कभी भी परेशानी हो फोन लगाएं, वह एक पिता की भांति उनकी हर समस्या का निदान करेंगे।

मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने विद्वान पंडितों के साथ मंच से स्वस्तिवाचक मंत्र का उच्चारण कर विवाह कार्यक्रम की शुरुआत की।

कार्यक्रम के दौरान हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ पांडाल में मौजूद रही। कार्यक्रम में दूर-दूर से वर-वधु पक्ष के लोग आने थे, जिससे वह समय पर पहुंच नहीं सके। वहीं भीड़ अधिक होने से होच-पोच की बीच कार्यक्रम संपन्न हुआ।

विशाल पंडाल में 800 से अधिक वेदी लगवाई गई थी, जहां विवाह संपन्न कराए जाने थे। इसके अलावा 12 निकाह कराए गए। सभी वेदियों पर सरकारी कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई थी। लेकिन कार्यक्रम स्थल पर अधिकांश वेदियों से कर्मचारी गायब रहे, जिससे वर-वधु पक्ष के लोग परेशान होते रहे।

जिला महिला सशक्तिकरण द्वारा गठित दल बाल विवाह रोकने के लिए कार्यक्रम में नजर बनाए रखा। नाबालिग होने की शंका पर दल में शामिल लोगों ने अधिकांश वर-वधु से जानकारी ली।

नई दुनिया लाइव

दोपहर 12.30 बजे : कृषि उपज मंडी का प्रांगण में हजारों लोग यहां से वहां व्यवस्थाओं में मशरूफ थे। दूरदराज से आए कुछ वर-वधु पंडाल के अंदर लगाई गई वेदी तक पहुंच गए थे, तो कुछ अपने स्थान की तलाश में यहां से वहां भटकते रहे। पंजीयन काउंटर पर भी लोगों की भारी भीड़ थी। वर-वधु के पंजीयन कराने के लिए लोगों का हुजूम काउंटर पर जमा था। पास ही पूछताछ कार्यालय खाली पड़ा था, संबंधित कर्मचारी गायब थे। सिर्फ डॉक्टर व कुछ कर्मचारी ही यहां बैठे थे। भारी भीड़ व होच-पोच व्यवस्था से परेशान लोग जानकारी लेने काउंटर तो आते, लेकिन जानकारी के बिना ही उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ रहा था।

दोपहर 1 बजे : मंच से पंडितों द्वारा विवाह के लिए मंत्रोच्चार किया। विशाल पंडाल में मंत्र की तेज ध्वनि सुनाई देने लगी। मंत्रोच्चार के बीच एक तरफ जहां पांडाल में कुछ वेदिया पर बैठे जोड़े हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार विवाह की रस्मों को पूरा करते नजर आए। वहीं दूसरी तरफ कुछ जोड़ों को जगह ही नहीं मिली। जिससे वह यहां से वहां भटकते रहे।

दोपहर 1.15 बजे :कलेक्टर प्रकाश जांगरे, सीईओ भास्कर लाक्षाकार ने पंडाल का निरीक्षण किया।

क्या मिला उपहार

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अंतर्गत प्रत्येक जोड़े पर 25 हजार रुपए खर्च किए गए। इसमें से 10 हजार रुपए की वधु के नाम एफडी, घर-गृहस्थी की सामग्री के लिए 7 हजार रुपए का चेक एवं 5 रुपए कीमत का मंगलसूत्र, बिछिया आदि ज्वैलरी दी गई। इसके अलावा 3 हजार रुपए की राशि पंडाल एवं वर-वधु पक्ष के भोजन पर खर्च की गई।

मंत्री डॉ. मिश्रा ने नवविवाहित जोड़ों को दी बधाई

मंत्री डॉ. मिश्रा ने दांपत्य जीवन में प्रवेश कर रहे नव विवाहित जोड़ों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह आयोजन में ओलापीड़ित किसानों की बेटियों के विवाह पर उन्हें 25 हजार रुपए अतिरिक्त सहायता दी जा रही है। कार्यक्रम में कलेक्टर प्रकाश जांगरे, सीईओ जिपं भास्कर लाक्षाकार, एसडीएम कमलेश भार्गव, नपा अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल, उपाध्यक्ष योगेश सक्सैना, पार्षद सुरेश उपाध्याय, संतोष कटारे, रामजी खरे, पंकज शुक्ला, विपिन गोस्वामी, सुलक्षणा गांगोटिया, लक्खा टिलवानी, अतुल भूरे चौधरी, भीम तिवारी आदि मौजूद रहे।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local