UPSC Result: देवास। लक्ष्य को ध्यान में रखकर इमानदारी से प्रयास किए जाए तो सफलता अवश्य मिलती है। इसका कोई शार्टकट नहीं होता। यह कहना है आयुष गुप्ता का। उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी में 98वीं रैंक प्राप्त की है। शहर के राजारामनगर के रहने वाले आयुष फिलहाल दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रहे थे। इससे पूर्व भी अपने पहले प्रयास में वे आरपीएफ में असिस्टेंट सिक्योरिटी कमीश्नर के रूप में चुने जा चुके हैं। आयुष ने यूपीएससी की तैयारी के लिए एक साल की लीव ली हुई थी। दिल्ली से ही उन्होंने बीटेक किया है। देवास स्थित उनके परिवार व दोस्तों में इस सफलता की जानकारी मिलते ही खुशी का माहौल बना हुआ है।

आयुष ने चर्चा में बताया कि बीटेक के दौरान ही यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी। कुछ समय कोचिंग की और इसके बाद सेल्फ तैयारी करते रहे। यूपीएससी का सिलेबस काफी व्यापक होता है, इसलिए कोचिंग से काफी हेल्प मिल जाती है। हालांकि कोचिंग के बाद अधिक समय सेल्फ स्टडी को देना चाहिए। सिविल सेवा में जाने के इच्छुक युवाओं को संदेश देते हुए आयुष का कहना है कि यूपीएससी की तैयारी स्कूल स्तर से ही शुरू कर देना चाहिए। हाईस्कूल व हायर सेकंडरी की पढ़ाई ही आपके बेस को मजबूत करती है। अपने प्रयासों में ईमानदारी होना चाहिए। इस सफलता में उन्हें आइपीएस का पद मिलने की उम्मीद है।

सफलता में सभी का श्रेय

आयुष के पिता रूपचंद गुप्ता प्राइवेट सेक्टर में है और मम्मी साधना गुप्ता शहर के राधाबाई स्कूल में शिक्षिका हैं। अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता के साथ बहन अक्षिता गुप्ता सहित मामा एवं बड़े पापा को देते हैं। आयुष का कहना है कि सभी ने मुझे हर परिस्थिति में मेरा हौंसला बनाए रखा। देवास व दिल्ली में जो मित्र हैं, वे भी मुझे सफलता के लिए प्रेरित करते रहे।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local