देवास(नईदुनिया प्रतिनिधि)। चार साल का मासूम दादी के पीछे अकेला घर से निकल गया। वह दादी के पास ना जाते हुए खेलते-खेलते घर से दूर जवाहर नगर चौराहे पर पहुंच गया। बालक को अकेला देखकर लोगों उससे पूछताछ की, लेकिन बालक ज्यादा कुछ बताने की स्थिति में नहीं था। इसके बाद लोगों ने पुलिस को सूचना दी। कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और उसे थाने लेकर गई। इधर, परिवार के लोग बालक को ढूंढते हुए थाने पर पहुंचे। साढ़े चार घंटे मां की आंखों से ओझल रहा बेटा जब मिला तो मां ने उसे उठाकर सीने से लगा लिया। बालक को विधिवत प्रक्रिया के बाद स्वजनों को सौंप दिया गया। बच्चे की मां मौना चौधरी ने बताया कि उनका चार साल का बेटा भावेश है। शुक्रवार सुबह 9.30 बजे भावेश की दादी मोहल्ले में रिश्तेदार के यहां गई। बेटा भावेश भी बोला था कि दादी के पास मोहल्ले में जा रहा हूं, लेकिन खेलते खेलते गलती से चौहारे पर चला गया। मौना चौधरी ने बताया कि बेटे को खाने के लिए ढूंढा तो नहीं मिला। मोहल्ले में रिश्तेदारों में पता किया, लेकिन सभी ने मना कर दिया कि भावेश यहां नहीं आया है। ढूंढते ढूंढते चौहारे पर पहुंचे तो कुछ लोगों ने बताया कि एक बालक लावारिश हालत में घुम रहा था। उसे पुलिस लेकर गई थी। जिस पर औद्योगिक थाने के बाद कोतवाली थाने पहुंचे तो बालक मिला। वहीं चाइल्ड लाइन के जितेंद्र सुनार्तिया ने बताया कि टीम को एक मासूम बालक के मिलने की सूचना मिली थी। हमने बालक को पुलिस के साथ मिलकर चौराहे पर घुमाया था, लेकिन परिवार का कुछ पता नहीं चला। कुछ घंटे बाद स्वजन थाने पर बच्चे को ढूंढते हुए पहुंचे। विधिवत प्रक्रिया के बाद बच्चे को स्वजनों को सौंप दिया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local