ग्वालियर (ब्यूरो)। हरी अदरक, काली मिर्च के पौधे, केला की फार्मिंग के व्यवसाय में इंवेस्ट कर लाखों रुपए का मुनाफा कमाने का झांसा देकर कर्नाटक के व्यापारी ने मर्चेंट नेवी में पदस्थ इंजीनियर, उसके भाई व पिता से 1.79 करोड़ रुपए ठग लिए। घटना 13 जुलाई 2015 से अभी तक की है। जब बार-बार रुपए जमा करने पर कोई मुनाफा नहीं मिला तो पीड़ित ने अपने इंवेस्ट की रकम वापस मांगी। इस पर उसे धमकाया गया। इसके बाद इंजीनियर ने बहोड़ापुर थाने में शिकायत की। जांच के बाद रविवार को पुलिस ने कर्नाटक के शिमोगा निवासी पिता-पुत्र सहित 3 लोगों पर मामला दर्ज किया है।

बहोड़ापुर के विनय नगर सेक्टर-4 न्यू स्टोर एरिया 201 निवासी सागर (35) पुत्र श्रीराम गोयल अभी मर्चेंट नेवी में बतौर सेकंड इंजीनियर पदस्थ हैं। जुलाई 2015 में पिता श्रीराम गोयल के मित्र भोपाल निवासी अनुपम लहरी ने कर्नाटक के शिमोगा निवासी अनिल जैन मालिक फॉर्च्यून एग्रो कंपनी से मुलाकात कराई थी। सागर के भाई नितिन और पिता से अनिल ने घर आकर मुलाकात की। उसने बताया कि उसका काम हरी अदरक, काली मिर्च के पौधे, केरोनेशन फ्लॉवर, एलिफेंट फुट, केला का फार्म आदि में इंवेस्ट कर कृषकों से खरीदकर देश-विदेश में अच्छे मुनाफे के साथ विक्रय कर सकते हैं। अभी वह यह काम कर रहे हैं और विजय भारती ग्रुप शिमोगा कर्नाटक, केनाज ग्रुप कोलकाता के माध्यम से देश विदेश में सप्लाई कर रहे हैं। इसके बाद मेरा भाई और पिता शिमोगा गए। अनिल और उसे बेटे शरद ततेड़ा, मनीष ततेड़ा ने सभी फार्म का मुआयना कराया। साथ ही वहां के लोगों से बात कराकर यह पुष्टि कराई कि यह सभी यूनिट उनकी हैं।

59 लाख लौटाकर जीता विश्वास

विजिट के बाद 13 जुलाई 2015 को 8.70 लाख रुपए फॉर्च्यून एग्रो के एचडीएफसी अकांउट में मेरे एसबीआई ग्वालियर के खाते से ट्रांसफर हुए। इसके बाद जुलाई 2015 से जनवरी 2016 के बीच कुल 61.90 लाख रुपए फॉर्च्यून एग्रो कंपनी के खाते में जमा कराए। इसके बाद अनिल ने बड़े जाल में फंसाने के लिए 59 लाख रुपए उनके खाते में वापस कराए। जिससे उनको विश्वास हो सके। 59 लाख रुपए का मुनाफा मिलने पर वह जाल में फंस गए।

Gwalior Shiv Mandir: ग्वालियर किले में यहां विराजमान थे बाबा कोटेश्वर, औरंगजेब ने की ये

करतूत मंत्री यादव के विधानसभा क्षेत्र में बैंक कर्ज वसूली से परेशान किसान ने जहर खाया, मौत

टैंकरों से नकली दूध और बस-रेल से मावा, पनीर की दिल्ली, महाराष्ट्र तक होती है सप्लाई

कंपनी बनाकर इंवेस्ट किए, 1.79 करोड़ डूब गए

59 लाख का मुनाफा कमाने के बाद सागर गोयल व उसके परिजन को अनिल जैन ने बताया कि अब वह कंपनी बनाकर बड़े स्तर पर काम करें। इसके बाद इंजीनियर सागर गोयल ने रूट्स एग्रोटेक नाम से फर्म बनाई। फरवरी 2016 से जून 2016 के बीच फर्म के इलाहाबाद बैंक में अपने खाते से 1.37 करोड़, 42.33 लाख रुपए दो बार में फॉर्च्यून एग्रो के खाते में डलवाए। पर इसके बाद उन्होंने कोई मुनाफा नहीं दिया। न ही कंपनी से कोई काम किया। जब सितंबर 2016 में उनसे मुनाफा मांगा गया तो पहले डालना शुरू किया। इसके बाद लगातार टहलाते रहें। जब वहां पहुंचकर बात की तो जान से मारने की धमकी दी। साथ ही गाली गलौज कर कहा रुपए नहीं लौटाएंगे। इसके बाद पता करने पर जानकारी मिली कि इसी तरह कई लोगों का रुपया ठग ले गए हैं। कुछ समय पहले बहोड़ापुर थाने में शिकायत की। जिस पर पुलिस ने अनिल जैन, उसके बेटे शरद व मनीष के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।