ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। विदेशों की तर्ज पर रेलवे स्टेशन के यार्ड में गंदगी की बजाय अब यात्रियों का स्वागत हरे भरे पेड़ों से होगा। इतना ही नहीं यात्रा के दौरान रेलवे ट्रैक किनारे पड़ी गंदगी की बजाय यात्रियों को सजावटी एवं औषधीय पौधे ही देखने को मिलेंगे। इस संबंध में रेलवे बोर्ड द्वारा उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) समेत सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों को पत्र जारी कर रेलवे ट्रैक के किनारे एवं स्टेशन के पहले यार्ड के खाली स्थानों पर पौधों के माध्यम से सौंदर्यीकरण किए जाने का निर्देश दिया गया है। बताया जा रहा है कि इसी मानसून औषधीय एवं अन्य सजावटी पौधे लगाने का काम रेलवे द्वारा शुरू कर दिया जाएगा।

इस कार्य में गैर सरकारी संगठनों, ट्रस्ट, सरकारी निकाय एवं स्वयं सहायता समूह की भी मदद ली जाएगी। रेलवे बोर्ड के डायरेक्टर एलएंडए चंद्रशेखर ने इस संबंध में उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक प्रमोद कुमार को गाइड लाइन भेज दी है। गाइड लाइन मिलने के बाद इस संबंध में अपनी कार्रवाई भी शुरू कर दी है। मुख्यालय स्तर से सीनियर डीईएन कोआर्डिनेशन को इसका नोडल अधिकारी भी प्रयागराज, आगरा एवं झांसी मंडल के लिए बनाया गया है। इस योजना के तहत ग्वालियर सहित प्रयागराज जंक्शन, कानपुर सेंट्रल, इटावा, टूंडला, अलीगढ़, खुर्जा, मथुरा जंक्शन, आगरा कैंट, धौलपुर, ग्वालियर, झांसी, ललितपुर, मिर्जापुर, उरई, विंध्याचल, मानिकपुर, बांदा आदि रेलवे स्टेशनों के रेलवे ट्रैक के किनारे एवं स्टेशनों के रास्ते में पड़ने वाले खुले स्थानों पर कम ऊंचाई वाले पौधे लगाए जाएंगे। पौधे लगाने वाली संस्था को ही उसके संरक्षण की जिम्मेदारी रेलवे द्वारा दी जाएगी। संस्था अधिकतम दस वर्ग फुट क्षेत्र (अस्थायी) पर अच्छे उद्योग अभ्यास के अनुसार प्रासंगिक विवरण के साथ अपना नाम प्रदर्शित कर सकती है। पार्टी को विज्ञापन व प्रचार के लिए कोई अतिरिक्त स्थान व सुविधा नहीं दी जाएगी। हालांकि पौधों के संरक्षण एवं उसकी सिंचाई के लिए रेलवे भी अपना पूरा सहयोग देगा।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close