Gwalior Railway Crime News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रेल सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवानों को रविवार को ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर एक किशोर रोता मिला। जवानों ने डरे-सहमे बच्चे से बात की तो पता चला कि वह गुजरात के पाटन का रहने वाला है और उसे कुछ बदमाश वहां से बहला-फुसलाकर ट्रेन से ग्वालियर ला रहे थे, लेकिन इसी बीच ट्रेन में चेकिंग होने पर वे आगरा के बाद उसे छोड़कर चले गए। किशोर के पिता पाटन में सरकारी शिक्षक हैं और मां सरकारी कालेज में प्रोफेसर है। आरपीएफ ने किशोर को चाइल्ड लाइन को सौंप दिया है, वहीं गुजरात से किशोर के माता-पिता भी उसे लेने के लिए आ रहे हैं।

आरपीएफ से मिली जानकारी के अनुसार जवानों को स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक एक पर किशोर रोता मिला। जवानों ने बातचीत की तो उसने अपना नाम पृथ्वी पटेल पुत्र नीलेश पटेल निवासी श्रीनगर सोसायटी पाटन बताया। उसने बताया कि वह शनिवार की शाम को ट्यूशन पढ़ने निकला था। रास्ते में कार सवार कुछ युवकों ने उससे पता पूछा और मौका देखकर उसे गाड़ी में डाल लिया। इसके बाद पालनपुर स्टेशन से उसे अहमदाबाद-ग्वालियर एक्सप्रेस में बैठा दिया और शोर करने पर जान से मारने की धमकी दी। ट्रेन जब आगरा पहुंची तो आरपीएफ व जीआरपी के जवान चेकिंग के लिए आ गए। ऐसे में बदमाश इधर-उधर हो गए। दहशत में किशोर चुपचाप सीट पर बैठा रहा और ग्वालियर में ट्रेन रुकने पर उतर गया। आरपीएफ ने जब उससे स्वजन का नंबर लेकर बातचीत की तो पता चला कि उसके गायब होने की रिपोर्ट पाटन थाने में की गई है। ऐसे में किशोर को चाइल्डलाइन के सुपुर्द कर दिया गया।

17 डलिया मावा लावारिस हाल में मिला

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। फूड एंड सेफ्टी विभाग को रेलवे स्टेशन के पास स्थित बस स्टैंड पर 17 डलिया मावा लावारिस हाल में मिला। अधिकारियों ने मौके पर दुकानदारों व बस वालों से पूछताछ की और मुनादी भी कराई, लेकिन कोई आगे नहीं आया। अब मावा को निर्धारित समय सीमा के बाद विनिष्ट करने की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local