ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। रेलवे के पार्सल विभाग में अनलोड होने वाले सामान को अब डाक विभाग लोगों के घरों व दुकानों तक पहुंचाएगा। इसके लिए डाक विभाग प्रति किलो के हिसाब से राशि चार्ज करेगा, लेकिन सामान सही-सलामत लोगों तक पहुंचाया जाएगा। अभी तक पार्सल में पहुंचने वाले सामान को लेने के लिए लोगों को रेलवे स्टेशन तक जाना पड़ता है, लेकिन अब उन्हें घर बैठे ही डिलीवरी की सुविधा मिल सकेगी।

अब लोगों को ट्रेन से अपना सामान बाहर भेजने और उसे रिसीव करने के लिए रेलवे स्टेशन जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ट्रेन से आने वाला पार्सल दिए गए पते पर पहुंचा दिया जाएगा। 35 से 100 किलो वजन के पार्सल की डिलेवरी की सुविधा जल्द ही डाक विभाग द्वारा शुरु की जा रही है। वर्तमान में पार्सल बुक कराने के बाद ग्राहकों को रोजाना पता करना पड़ता है कि बुक किया गया पार्सल स्टेशन के पार्सल कार्यालय पर पहुंचा है या नहीं। ऐसे में ग्राहकों का समय व परिवहन के लिए ईंधन खर्च करना पड़ता है। डाक विभाग की इस सेवा से पार्सल बुक कराने वाले ग्राहकों को राहत मिलेगी। ट्रेन से पार्सल जब स्टेशन स्थित पार्सल विभाग पहुंचेगा, उसके बाद पार्सल रेल कर्मी संबंधित सामान को रेलवे गोदाम में रखेंगे। इसके बाद डाक विभाग उस पार्सल को रेलवे द्वारा उपलŽब्ध कराई गई इनवाइस के आधार पर क्षेत्र के पोस्टमैन से घर तक भिजवाएगा। जो पार्सल डाक विभाग को मिलेगा, उसे 24 घंटे में पार्सल में दिए गए घर या प्रतिष्ठान पर डाक विभाग पहुंचा देगा। डाक विभाग का निर्धारित समय के भीतर पार्सल पहुंचाने पर विशेष जोर रहेगा। हालांकि अगर ट्रेन लेट हुई तो यह तय है कि पार्सल भेजने में देर हो सकती है। पार्सल बुक कराने वालों को साढ़े 12 रुपए रुपये प्रति किलो के हिसाब से पार्सल का खर्च वहन करना पड़ेगा। कोई ग्राहक सामान कहीं भी भेजना चाहे तो यह सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। पार्सल 35 से 100 किलो ग्राम तक के हो सकते हैं। पार्सल की पैकिंग भी डाक विभाग द्वारा की जाएगी जिससे कि टूट-फूट नहीं हो।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close